Home » Tag Archives: पारसनाथ पर्वत

Tag Archives: पारसनाथ पर्वत

दो पहिया वाहन के कारण पारसनाथ पर्वत पर डोली मजदूर भुखमरी के कगार पर

doli mazdoor

झारखंड का पारसनाथ पर्वत जैन धर्मावलम्बियों का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल झारखंड का पारसनाथ पर्वत (Parasnath Mountains of Jharkhand) पिछले कई सालों से सुर्ख़ियों में इसलिए है कि, जहां यह पर्वत जैन धर्मावलम्बियों का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल (The biggest pilgrimage site for Jain religions) है, वहीं इस पर्वत की तलहटी में बसे दर्जनों गांवों के हजारों लोगों की आजीवीका …

Read More »

जैन धर्मावलम्बियों की संस्थाओं के खिलाफ एक दिवसीय सांकेतिक मधुबन बन्द

One day symbolic Madhuban Bandh against Jain religious organizations

One day symbolic Madhuban Bandh against Jain religious organizations रांची से विशद कुमार. झारखंड के गिरिडीह अंतर्गत मधुबन जैन धर्मावलम्बियों का विश्व स्तरीय धर्मस्थल (Jainism’s world-class shrine at Madhuban in Giridih, Jharkhand) के रूप में जाना जाता है। अहिंसा के पुजारी के रूप में जाने जाने वाले इन जैन धर्मावलम्बियों के धर्मस्थल पर स्थित तीन संस्थाओं के सभी कर्मचारी चार …

Read More »

मुख्यमंत्री बनने के बाद मोतीलाल बास्के को भूल गए हेमंत सोरेन ?

Moti Lal Baske Hemant Soren

न्याय से वंचित है डोली मजदूर मोतीलाल बास्के का परिवार ‘मेरे पति की हत्या 9 जून 2017 को सीआरपीएफ कोबरा ने 11 गोली मारकर कर दी और उन्हें एक दुर्दांत माओवादी घोषित कर दिया। जबकि वे पारसनाथ पर्वत पर चावल-दाल का छोटा सा दुकान चलाते थे और जैन धर्मावलम्बिायों को पर्वत वंदना कराने के लिए डोली मजदूर का काम भी …

Read More »

गरीब मजदूरों के सच्चे दोस्त थे मजदूर नेता व जनपक्षधर अधिवक्ता कामरेड सत्तो दा

कामरेड सत्यनारायण भट्टाचार्य उर्फ सत्तो दा, Comrade Satyanarayan Bhattacharya alias Satto da

Comrade Satto da, the labor leader and public advocate was true friend of poor laborers ‘कामरेड सत्यनारायण भट्टाचार्य उर्फ सत्तो दा (Comrade Satyanarayan Bhattacharya alias Satto da) गरीब मजदूरों के सच्चे दोस्त थे। वे ताउम्र गरीबों के हक-अधिकार की रक्षा के लिए लड़ते रहे। वे इस अन्यायी व लुटेरी व्यवस्था के घोर विरोधी थे। वे मार्क्सवाद-लेनिनवाद-माओवाद विचारधारा के प्रबल हिमायती थे …

Read More »