Home » Tag Archives: पूंजीवाद

Tag Archives: पूंजीवाद

अरविंद नारायण: “दक्षिणपंथी विचारधाराओं का उदय पूंजीवाद द्वारा गढ़ी गई आर्थिक असमानता के गंभीर स्तरों पर निर्भर करता है”

debate

अधिनायकवादी राज्य का मुकाबला : अरविंद नारायण विखर अहमद सईद प्रिंट संस्करण : 25 मार्च, 2022 टी+ टी- (मूल अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद: एस आर दारापुरी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, आल इंडिया पीपुल्स फ्रन्ट)  लेखक और वकील अरविंद नारायण के साथ साक्षात्कार बेंगलुरु के वकील और लेखक अरविंद नारायण “India’s Undeclared Emergency/ Constitutionalism And The Politics of Resistance” (भारत के अघोषित आपातकाल: …

Read More »

एजाज़ अहमद ने मार्क्सवाद के प्रति आस्था कभी न छोड़ी

Literature news

Aijaz Ahmad never gave up his faith in Marxism | एजाज़ अहमद का व्यक्तित्व और कृतित्व | Personality and Creativity of Aijaz Ahmed in Hindi मार्क्सवादी चिंतक एजाज़ अहमद की श्रद्धांजलि सभा का पटना में आयोजन | Tribute meeting of Marxist thinker Aijaz Ahmad organized in Patna पटना, 15 मार्च। विश्वप्रसिद्ध मार्क्सवादी चिंतक व लिटररी थियोरिस्ट एजाज़ अहमद के श्रद्धाजंलि …

Read More »

चीन समाजवादी ही रहेगा या पूंजीवाद के लिए रास्ता छोड़ देगा? देंग श्याओ पिंग को परखने का वक्त आ गया है ?

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

पूंजीवादी बाजारवाद बनाम समाजवादी ‘प्रकृतिवाद’ चीन में कथित ‘विचारधारात्मक संघर्ष’ का तात्पर्य Arun Maheshwari on ideological struggle in China. चीन में वैचारिक संघर्ष पर अरुण माहेश्वरी का मत चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Chinese President Xi Jinping) ने चीन में कुछ बड़ी टेक कंपनियों से शुरू करके इजारेदार पूंजी पर लगाम की दिशा में जो कार्रवाइयां शुरू की हैं, वे …

Read More »

जिस दिन अजित अंजुम के सवाल का कोई उत्तर मिल जाएगा, उसी दिन इस संघर्ष का अंत भी हो जाएगा !

A report from the Kisan Andolan Tikari Border 2

किसानों का संघर्ष एक क्रांतिकारी संघर्ष है ! अजित अंजुम एक किसान से पूछ रहे थे कि इतने दिनों से चल रहे इस आंदोलन का क्या होगा, अर्थात् इसका अंत क्या है ? दरअसल वे यह सवाल आंदोलन में शामिल किसान से नहीं, खुद से ही कर रहे थे। इसके अंत का कोई अनुमान न मिलना ही इसके असंभव, अचिन्त्य …

Read More »

ट्रम्प वैश्विक लोकतंत्र को डुबो रहे हैं – सर्वे

Donald Trump

Trump is sinking global democracy खतरे में लोकतंत्र | democracy in danger इस सप्ताह 18 और 19 जून को दुनियाभर में लोकतंत्र के भविष्य पर एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (An international conference on the future of democracy worldwide) आयोजित किया जा रहा है. कोविड 19 के दौर में यह सम्मेलन विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये किया जाएगा, और इसे संबोधित करने वालों …

Read More »

हिंदुत्व के कारपोरेट एजेंडा को हाशिये पर रखकर मोदी नई चुनौतियों का मुकाबला कर पाते हैं, तो देश बचेगा और वे भी, वरना देश रसातल में चला जाएगा

Narendra Modi Hugging Mukesh Ambani

आज हमारी प्यारी पोती छनछन का जन्मदिन था। हम लोग दिनेशपुर जाकर उसका बर्थडे मनाना चाहते थे। हम काफी बूढ़े हो गए हैं, इसलिए बर्थडे की याद नहीं रही। आज सुबह शालू और प्रिया के पोस्ट से मालूम चला। सुबह-सुबह एसडी इंटर कॉलेज के सुभाष व्यापारी और किड्स पैराडाइस के सतिंदर सिंह आ पहुंचे। कल रात सविता जी की भतीजी …

Read More »