लॉकडाउन में किताबें : क्या कबाब शाकाहारी भी होते हैं? जीवन के सरल सवालों से सब परेशान हैं

Puspesh Pant

कविताएं जीवन जीने का और मुश्किलों से लड़ने का सलीका सिखाती हैं नई दिल्ली, 15 अप्रैल 2020. घरबंदी की मियाद (Lockdown period) एक बार फिर बढ़ गई है। यह धैर्य, उम्मीद और एक-दूसरे का साथ देने का समय है। #StayAtHomeWithRajkamal के तहत फेसबुक लाइव के जरिए लॉकडाउन में किताबों, लेखकों और कलाकारों को घर बैठे