बेशर्मी और निर्लज्जता की हदें पार करते महामहिम!

bhagat singh koshyari with Udhav Thackrey

सेक्युलरिज्म यानी पंथनिरपेक्षता किसी पार्टी का नारा नहीं बल्कि हमारे स्वाधीनता संग्राम से जुडा मूल्य है, जिसे केंद्र में रखकर हमारे संविधान की रचना की गई है। 15 अगस्त, 1947 को जिस भारतीय राष्ट्र राज्य का उदय हुआ, उसका अस्तित्व पंथनिरपेक्षता यानी सेक्युलरिज्म की शर्त से बंधा हुआ है।

केन्द्र सरकार के ‘आदेशपाल’ की भूमिका निभाते राज्यपाल

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

केन्द्र सरकार के ‘आदेशपाल’ की भूमिका निभाते राज्यपाल राज्यपालों की भूमिका पर मंथन जरूरी It is important to churn on the role of governors An article based on the questions raised on the role of governors once again After the Maharashtra episode अगर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Maharashtra Governor Bhagat Singh Koshyari) ने