एमएसपी से कम खरीद हो दण्डनीय अपराध, पीएम कर रहे देश को भ्रमित – एआईपीएफ

AIPF and Mazdoor Kisan Manch demonstrated in support of agitated farmers

आंदोलित किसानों के समर्थन में एआईपीएफ और मजदूर किसान मंच ने किए प्रदर्शन अमेरीका व कारपोरेट के दबाब में बनाए आरएसएस-भाजपा सरकार ने देश विरोधी कानून Purchasing less than MSP should be a punishable offence, PM confuses the country – AIPF AIPF and Mazdoor Kisan Manch demonstrated in support of agitated farmers RSS-BJP government enacted

अच्छे दिन : अबकी बार नीतीश कुमार की “नीतीशकुमार-मुक्त” भाजपा सरकार

Nitish Kumar Bihar CM

और अंत में अकाली दल, शिव सेना आदि की तरह, जदयू को भी भाजपा एक दिन बाहर का दरवाजा दिखा ही देगी। आखिरकार, मुख्यमंत्री के रूप में नीतीश कुमार की लगातार चौथी पारी (Nitish Kumar‘s fourth consecutive innings as Chief Minister) शुरू हो गयी है। सोमवार को दोपहर बाद, उन्होंने सातवीं बार, पद और गोपनीयता

लुका छुपी का खेल खत्म, मायावती अब खुलकर भाजपा के साथ, भाजपा को मजबूत करने का श्रेय सपा-बसपा को – एआईपीएफ

Mayawati and ChandraShekhar Ravan

तथाकथित सामाजिक न्याय का दंभ भरने वाली सपा तथा बहुजन के नाम पर राजनीति करने वाली बसपा की अब तक की गठजोड़ व तोड़फोड़ करके सत्ता की राजनीति से आरएसएस-भाजपा को परास्त नहीं किया जा सकता उलटा उत्तर प्रदेश में तो भाजपा को मजबूत करने का श्रेय भी इन्हीं दोनों पार्टियों को जाता है

नीतीश कुमार की खाट खड़ी कर सकते हैं जदयू और भाजपा से बगावत कर चुनाव लड़ रहे नेता

Nitish Kumar Bihar CM

बिहार विधानसभा चुनाव पर पटना से वरिष्ठ पत्रकार चरण सिंह राजपूत की रिपोर्ट Report of senior journalist Charan Singh Rajput from Patna on Bihar assembly election बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) का बिगुल बज चुका है। सभी दल पूरी तरह से चुनावी समर में उतर चुके हैं। यह चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए

बेनामी सम्पत्तियों को जब्त करे योगी सरकार, भाजपा से जुड़े अपराधियों पर भी हो कार्यवाही – अखिलेन्द्र

Akhilendra Pratap Singh

सत्ताधारी दल से जुड़े अपराधियों पर भी हो कार्यवाही प्रदेश की कानून व्यवस्था ध्वस्त, अपराधियों को बचाने में लगे है उच्चाधिकारी  लखनऊ, 14 अक्टूबर 2020, आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राज्य स्तरीय कार्यकर्ताओं की वर्चुअल बैठक को सम्बोधित करते हुए स्वराज अभियान के नेता अखिलेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

बंगाल में 2021 की चुनावी लड़ाई तृणमूल, वाम-कांग्रेस और भाजपा के बीच त्रिपक्षीय लड़ाई होगी

India News in Hindi, इंडिया न्यूज़, Hindi News, हिंदी समाचार, India News in Hindi, Read Latest Hindi News, Breaking News, National Hindi News, हिंदी समाचार, National News In Hindi, Latest National Hindi News Today,todays state news in Hindi, international news in Hindi, all Hindi news, national news in Hindi live, Aaj Tak Hindi news, BBC Hindi, Hindi news paper, today's state news in Hindi, Bihar breaking news live, Rashtriya khabren,

बंगाल में भाजपा की भारी दुर्दशा के साफ संकेत मिलने लगे हैं। हालांकि बंगाल के आगामी चुनाव में तृणमूल और वाम-कांग्रेस के बीच मुकाबले में प्रतिद्वंद्विता में अनुपस्थित भाजपा ही एक सबसे निर्णायक कारक की भूमिका अदा करने वाली है।

अब इस किसान असंतोष को सरकार नजरअंदाज करने की स्थिति में नहीं है

Bharat Bandh Farmers on the streets throughout Chhattisgarh

सरकार उद्योग की कीमत पर कृषि को जिस दिन से नज़रअंदाज़ करने लगेगी, उसी दिन से देश की आर्थिकी खोखली होने लगेगी। सरकार को चाहिए कि वह देश और अर्थव्यवस्था के हित में किसान संगठनों से बात करे और उनकी समस्याओं का समाधान निकाले।

खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक – मजदूर किसान मंच

Agriculture Bill will destroy agriculture - Mazdoor Kisan Manch

मजदूर किसान मंच ने उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में दर्ज कराया प्रतिवाद. गांव-गांव आरएसएस- भाजपा का किसान करेंगे विरोध – दारापुरी

अगर पीएम ईमानदार हैं, तो एमएसपी का प्रावधान एक नया कानून बनाकर क्यों नहीं स्थाई किया जाता है ?

Narendra Modi flute

सरकार ने कृषि सुधार की ओर कभी गंभीरता से ध्यान ही नहीं दिया। जबकि भारत की अर्थव्यवस्था का यह मूलाधार है। कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार की बात ही छोड़ दीजिए, विशेषज्ञ और अर्थशास्त्री भी यह नहीं समझ पाये कि देश और समाज को खाद्य सुरक्षा प्रदान करने में किसान और खेती की ही भूमिका होती है, बड़े धनपशुओं की नहीं !

आरएसएस-भाजपा के अधिनायकवादी प्रोजेक्ट पर अखिलेन्द्र प्रताप सिंह का महत्वपूर्ण लेख

Akhilendra Pratap Singh

यह सही है कि मोदी सरकार के विरूद्ध आंदोलन उभर रहे हैं। नागरिक, सामाजिक और डॉक्टर अम्बेडकर के विचारों पर चल रहा दलित आंदोलन दमन का मजबूती से विरोध कर रहा है लेकिन इन धाराओं की राजनीतिक उपस्थिति नहीं है। यही वह बिंदु है जहां इन आंदोलनों को अपने को पुनर्परिभाषित करना चाहिए और देश के सामने आई राजनीतिक चुनौती को स्वीकार करना चाहिए।