Home » Tag Archives: भारतीय राष्ट्रवाद

Tag Archives: भारतीय राष्ट्रवाद

जयशंकर प्रसाद, भूमंडलीकरण और राष्ट्रवाद

jaishankar prasad, globalization and nationalism

Jaishankar Prasad, Globalization and Nationalism समय – फ्रांसिस फुकुयामा ने´इतिहास का अंत´ की जब बात कही थी तो उन्होंने ´एंड ऑफ दि स्पेस´ की बात कही थी, लेकिन हिंदी आलोचकों ने उसे गलत अर्थ में व्याख्यायित किया। सवाल यह है भूमंडलीकरण के कारण सारी दुनिया में ´स्पेस´का अंत हुआ या नहीं ॽ यही वह परिदृश्य है जिसमें आप भूमंडलीकरण को …

Read More »

हामिद अंसारी और भारतीय बहुवाद को खतरे : हमें अंसारी की बातों को गंभीरता से लेना होगा

hamid ansari

Hamid Ansari’s Woes: Plight of Pluralism in India भारत का उदय विविधता का सम्मान करने वाले बहुवादी प्रजातंत्र के रूप में हुआ था. अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए हमारे संविधान में समुचित प्रावधान किये गए, जिनका खाका सरदार पटेल की अध्यक्षता वाली संविधानसभा की अल्पसंख्यकों पर समिति ने बनाया था. आज, सात दशक बाद, अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और उनके आर्थिक …

Read More »

हू इज भारत माता | नेहरू के लिए राष्ट्रवाद का क्या अर्थ था

Jawaharlal Nehru

‘भारत माता की जय’ मार्का राष्ट्रवाद | Nationalism in Hindi, Nationalism in Hindi समय के साथ, हमारी दुनिया में राष्ट्रीयता का अर्थ बदलता रहा है. राजनैतिक समीकरणों में बदलाव तो इसका कारण रहा ही है विभिन्न राष्ट्रों ने समय-समय पर अपनी घरेलू नीतियों और पड़ोसी देशों के साथ अपने बदलते रिश्तों के संदर्भ में भी इस अवधारणा की पुनर्व्याख्या की हैं. …

Read More »