कोरोना काल में चर्चा – हज़ार चौरासी की माँ (महाश्वेता देवी ) की दर्द भरी दास्तान, जो नहीं पहुँची बेटे के मरने पर

महाश्वेता देवी, महाश्वेता देवी जीवनी,

एक माँ जो नहीं पहुँची बेटे के मरने पर 1977 में मैग्सेसे, 1986 में पद्मश्री, 1996 में ज्ञानपीठ, 2006 में पद्मभूषण सहित दर्जनों देशी-विदेशी पुरस्कार प्राप्त करने वाली कालजयी लेखिका, जिनके लेखन पर 1968 में संघर्ष, 1993 में रूदाली, 1998 में हजार चौरासी की माँ (Hazaar Chaurasi Ki Maa) और 2000में माटी माई जैसी शानदार

14 जनवरी 2020 : आज है महाश्वेता देवी का 94 वां जन्मदिन

महाश्वेता देवी, महाश्वेता देवी जीवनी,

14 जनवरी 2020 : इतिहास में आज का दिन महाश्वेता देवी का 94 वां जन्मदिन 1926 में आज के दिन, भारत के अग्रणी लेखकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं में से एक महान लेखिका महाश्वेता देवी का जन्म डेका (बांग्लादेश में आधुनिक-ढाका) में हुआ था (On this day in 1926, legendary author Mahasweta Devi was born in