Home » Tag Archives: लोकतंत्र

Tag Archives: लोकतंत्र

श्रीमान हम आपको इस आलेख के कोई पैसे नहीं दे सकते !

media

“श्रीमान हम आपको इस आलेख के कोई पैसे नहीं दे सकते। सहयोग के लिए सम्पादक के धन्यवाद सहित सादर।“ किसी स्वतंत्र पत्रकार के लिए उसके किसी आलेख पर यह जवाब अब आम हो चुका है। स्वतंत्र पत्रकार ही नहीं किसी न किसी संस्थान से जुड़े बहुत से पत्रकार भी कोरोना के दौरान अपनी नौकरी खोने के बाद अब उस दिन …

Read More »

लोकतंत्र के लिए गंभीर खतरा है देश में असहमति के प्रति बढ़ती असहनशीलता

एल. एस. हरदेनिया। लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।

Growing intolerance towards disagreement in the country is a serious threat to democracy न सिर्फ देश का सर्वोच्च न्यायालय, अनेक उच्च न्यायालय, अनेक समाचार पत्र, संविधान एवं न्यायिक क्षेत्र के  अनेक विशेषज्ञ, और यहां तक कि दुनिया के विभिन्न देशों की मानवाधिकार और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता (Freedom of expression) के प्रति प्रतिबद्ध संस्थाएं यह मानती हैं कि भारत में बोलने …

Read More »

जुगनुओं को कैद करता तानाशाह : यही है संघी-भाजपाई “राष्ट्रवाद” – जो शुरू से ही इतना ही फर्जी है

disha ravi

इस बार 21-22 वर्ष की दिशा रवि को बिना किसी तरीके की सुनवाई के सीधे 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। दिशा पर देशद्रोह, राष्ट्र के खिलाफ बगावत और न जाने कैसे-कैसे संगीन आरोप मढ़े गए हैं, अभी और कुछ आरोप गढ़े जाएंगे। कारपोरेट नियंत्रित मोदी मीडिया उन्हें और भी नमक-मिर्च लगाकर दोहरायेगा और पेड़,पौधे, नदी, पहाड़, …

Read More »

पत्रकारों को कानूनी सुरक्षा देने के लिए जेजेए का संघर्ष

Press Freedom

रांची से शाहनवाज हसन. झारखंड में पत्रकारों की सुरक्षा (Security of journalists in Jharkhand) हमेशा से एक बड़ा मुद्दा रहा है। रघुवर दास के कार्यकाल में झारखण्ड के विभिन्न जिलों में बड़ी संख्या में पत्रकारों की हत्यायें एवं झूठे मुकदमों के बाद जेल भेजने की घटनाओं को तब विपक्षी दलों  चुनावी मुद्दा बनाते हुए इसे अपने घोषणापत्र में शामिल करने …

Read More »

चारधाम ऑल वेदर रोड और गंगा एक्सप्रेस-वे

Glaciers

बहस इन पर भी हो नदियों के अविरल-निर्मल पक्ष की अनदेखी करते हुए उनकी लहरों पर व्यावसायिक सवारी के लिए जलमार्ग प्राधिकरण (Waterways Authority of India,)। पत्थरों के अवैध चुगान व रेत के खनन के खेल में मिल खुद शासन-प्रशासन के नुमाइंदे। बांध-सुरंग परियोजनाएं। गंगा की ज़मीन पर पटना की राजेन्द्र नगर परियोजना। लखनऊ में गोमती के सीने पर निर्माण। दिल्ली में …

Read More »

अस्तित्व बचाने की लड़ाई है किसान आंदोलन : रामेश्वर प्रसाद

Aipf Patna

Kisan movement is a fight to save existence: Rameshwar Prasad पटना से विशद कुमार. किसानों का यह आंदोलन सिर्फ कृषि कानूनों के खिलाफ ही नहीं, लोकतंत्र, संविधान और देश बचाने के साथ-साथ अस्तित्व बचाने का संघर्ष है। आपदा की घड़ी में मोदी सरकार ने देश के सार्वजनिक प्रतिष्ठानों को पूंजीपतियों के हाथों बेचना शुरू कर दिया। हद तो तब हो …

Read More »

रोम, मिस्र, यूनान सब मिट चुके, बचाना है भारत की हस्ती को तो बचाना होगा यहां की जनता और जनतंत्र को

Today's Deshbandhu editorial

देशबन्धु में संपादकीय आज : पटरी से उतरता गणतंत्र अपनी किताब मॉर्टल रिपब्लिक में एडवर्ड जे वाट्स ने रोमन गणराज्य के पतन के कारणों (Reasons for the fall of the Roman Republic) पर नए नजरिए से मंथन किया है। सरकारी संस्थाओं, संसदीय नियमों और राजनैतिक रिवाजों ने सदियों तक रोम को राजनैतिक और सैन्य रूप से सशक्त बनाया, लेकिन जब …

Read More »

द इनइक्वैलिटी वायरस रिपोर्ट : असमानता के इस वायरस का वेक्सीन कब बनेगा? कोरोना काल में वायरस की तरह फैली गरीबी

Lockdown, migration and environment

A new Oxfam report Oxfam shows how socioeconomic inequalities rose during the pandemic, where the richest section’s wealth grew exponentially while most Indians reeled from destitution and hunger. द इनइक्वैलिटी वायरस रिपोर्ट : भारत का लोकतंत्र (Democracy of india) अपने गणतंत्र दिवस (The Republic Day) के अवसर पर एक इतिहास का हिस्सा बन रहा है जब देश का गण अपने …

Read More »

इन कृषि कानूनों पर क्या कैबिनेट में भी पर्याप्त विचार विमर्श हुआ था ?

Modi government is Adani, Ambani's servant. Farmers and workers will uproot it - Randhir Singh Suman

Was there enough discussion on these agricultural laws in the cabinet too? – Vijay Shankar Singh अब जब नौ दौर की बातचीत के बाद भी वार्ताकार मंत्रीगण, किसानों को यह नहीं समझा पा रहे हैं कि यह कानून कैसे किसानों के हित में बना है, तो इससे यह बात भी स्पष्ट होती है कि, या तो मंत्रीगण खुद ही यह …

Read More »

सरकार वैक्सीन के साथ लोकतंत्र का टीका भी लाए, पुराना साल बीते, नया साल आए

Literature, art, music, poetry, story, drama, satire ... and other genres

The government should also bring vaccine for democracy with the vaccine, an old year passed, new year come दुआ है कि दर्द के लिए मरहम बनके ये साल आए/ सरकार वैक्सीन के साथ लोकतंत्र का टीका भी लाए पुराना साल बीते, नया साल आए कोई लोहरी, कोई पोंगल कोई खिचड़ी मनाए रस्में हैं जो अपने खि़त्तों की, रिवाज़ है जो …

Read More »

चंद इजारेदारों के कदमों में, नहीं देख सकते हम बंधक, अपने देश की संसद और सरकार

Modi government is Adani, Ambani's servant. Farmers and workers will uproot it - Randhir Singh Suman

तीन काले कानूनों के विरुद्ध दिल्ली में आंदोलनरत किसानों को समर्पित एक रचना :- ठण्ड मुझे भी लगती है, खुला आसमान, ठंडी हवाएँ, मुझे भी सताती हैं यह अलग बात है, जब मैं सृज़न करता हूँ मिट्टी से जाने क्या क्या रचता हूँ, तो मेरे लिए ठण्ड बेमानी हो जाती है, धरती मेरा कर्मक्षेत्र और आकाश मेरे कर्म का साक्षी …

Read More »

विभाजन रेखाएँ : इस शहर में हर शख्स परेशान-सा क्यूँ है? दुर्भाग्य से यह सवाल कोई नहीं उठाता

Opinion, Mudda, Apki ray, आपकी राय, मुद्दा, विचार

विभाजन रेखाएँ मिटाने की चाह | Want to erase divider lines माहौल कुछ ऐसा है कि सोचने वाले को सोच विचार से डर लगे, हवा के झोंके से जिस के बदन के रौएँ थरथराते हो, वह अपनी संवेदनशीलता से भयभीत हो उठें। हर कोई सोचता है – सिर्फ मैं  तकलीफ में हूँ  और मुझे  तकलीफ पहुँचाने  ‘वो सारे’ कोशिश में …

Read More »

सरकारें, पुलिस एक्ट-कानूनों में संशोधन के बजाय पुलिस रिफॉर्म पर काम करें

POLICE

Governments should work on police reform rather than amending police act-laws Police is an important link and protector of democracy. The police is also responsible for the success of democracy. •डॉ. लखन चौधरी• देश में पुलिस सुधार अध्यादेशों एवं कानूनों की आवश्यकताओं पर एक बार फिर से पुर्नविचार करने का समय आ गया है। वैसे तो पुलिस सुधार के इस …

Read More »

गंगा हितों की अनदेखी के मार्ग

Ganga

गंगा, गति और गवर्नेंस : Ganges, Speed and Governance नदियों के अविरल-निर्मल पक्ष (Uninterrupted sides of rivers) की अनदेखी करते हुए उनकी लहरों पर व्यावसायिक सवारी के लिए जलमार्ग प्राधिकरण (Waterways authority)। पत्थरों के अवैध चुगान व रेत के खनन के खेल में शामिल खुद शासन-प्रशासन के नुमाइंदे। गंगा की ज़मीन पर पटना की राजेन्द्र नगर परियोजना। लखनऊ में गोमती …

Read More »

बिहार चुनाव : लोकतंत्र की खूबी की मिसाल

Bihar assembly election review and news

Bihar election: example of the quality of democracy बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के अंतिम चरण का मतदान पूरा होने पर ज्यादातर एग्जिट पोल में राष्ट्रीय जनता दल (राजग) के नेतृत्व वाले महागठबंधन को सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से आगे अथवा कड़ी टक्कर में दिखाया है. महागठबंधन के नेताओं/कार्यकर्ताओं में स्वाभाविक ख़ुशी की लहर है. आरएसएस/भाजपा के फासीवाद …

Read More »

लोकतंत्र से लोक गायब, कैसे हो सत्ता में जनता की वापसी

democracy

Public disappearance from democracy, how should the public return to power              फिलहाल सब गोलमाल है। देश में लोकतंत्र है और भारतवर्ष विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, पर इस लोकतंत्र में तंत्र ही तंत्र है और लोक सिरे से गायब है। मेरा बचपन और किशोरावस्था हरियाणा के जिस कस्बे में गुजरे वहां विकास का अजब नज़ारा होता था। एक विभाग …

Read More »

भारतीय शासन व्यवस्था के कुछ और पहलुओं पर गौर करना भी आवश्यक है

Kaanoon, Samvidhaan Aur Desh

कानून, संविधान और देश | Kaanoon, Samvidhaan Aur Desh | Law, Constitution and country भारतवर्ष विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र (World’s largest democracy) है और हम गर्व करते हैं कि हमारा संविधान वृहद और परिपूर्ण है, फिर भी हम देखते हैं कि जनहित के नाम पर अक्सर ऐसे कानून बन जाते हैं जो असल में जनविरोधी होते हैं। श्रीमती इंदिरा गांधी …

Read More »

जानिए फासिज्म के मायने क्या हैं

Fascism Ahead

Know what is the meaning of fascism | नरेन्द्र मोदी का फासिज्म भारतीय फासिज्म की लाक्षणिक विशेषताएं – Characteristics of Indian Fascism फासिज्म के मायने क्या हैं इस पर भारत में बहुत बहस है, इस बहस में बड़े बड़े दिग्गज उलझे हुए हैं लेकिन आज तक फासिज्म की कोई सर्वमान्य परिभाषा (Common definition of fascism) तय नहीं कर पाए हैं। …

Read More »

मानवाधिकार और लोकतंत्र का मौजूदा दौर में कोई विकल्प नहीं

Human rights

मानवाधिकार और लोकतंत्र – Human Rights and Democracy आज कितने देश हैं जहां मानवाधिकार सुरक्षित हैं (How many countries are there today where human rights are protected?)? कितनी सरकारें उनका पालन कर रही हैं ? मानवाधिकारों पर हमला (Attack on human rights) आज के युग की सबसे बड़ी दुर्घटना है। अमरीका, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान, जर्मनी, रूस से लेकर भारत तक …

Read More »

ट्रम्प वैश्विक लोकतंत्र को डुबो रहे हैं – सर्वे

Donald Trump

Trump is sinking global democracy खतरे में लोकतंत्र | democracy in danger इस सप्ताह 18 और 19 जून को दुनियाभर में लोकतंत्र के भविष्य पर एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (An international conference on the future of democracy worldwide) आयोजित किया जा रहा है. कोविड 19 के दौर में यह सम्मेलन विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये किया जाएगा, और इसे संबोधित करने वालों …

Read More »

म.प्र. में ऑपरेशन कमल जीता, लोकतंत्र हारा! न्यायपालिका की विफलता

Kamalnath

M.P. Operation Kamal wins, democracy loses! आखिरकार, कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश में भी भाजपा का ‘ऑपरेशन कमल’ जीत गया। और लोकतंत्र हार गया। सुप्रीम कोर्ट की शुक्रवार, 20 मार्च को विधानसभा में शक्ति परीक्षण कर बहुमत साबित करने (FLOOR test in assembly to prove majority) के लिए शाम 5 बजे तक की डैडलाइन से पांच घंटे पहले ही कांग्रेसी …

Read More »