Home » Tag Archives: वर्ण व्यवस्था

Tag Archives: वर्ण व्यवस्था

क्या आप जानते हैं मोदी को पराजित करना बहुत मुश्किल काम क्यों है ?

Narendra Modi flute

Do you know why it is very difficult to defeat Modi? वर्ण व्यवस्था की पुनर्व्याख्या भी Identity politics based पिछड़ी राजनीति को नरेंद्र मोदी के मुकाबले कहीं खड़ी नहीं कर सकती. इसलिए इसके उन्मूलन पर विचार होना चाहिए. मैं पिछले कुछ दिनों से देख रहा हूं कि कुछ इंटेलेक्चुअल वर्ण व्यवस्था की पुनर्व्याख्या (Reinterpretation of varna system) कर रहे हैं. …

Read More »

आदिवासी न हिंदू हैं न थे, बाबूलाल संघी गुलाम हैं, भाजपा- आरएसएस आदिवासी विरोधी हैं – सालखन

Salkhan Murmu is a socio-political activist working for the Tribal Empowerment in 5 states. He is also the founder and national president of Jharkhand Disom Party. He was twice the Member of Parliament in 12th and 13th Lok Sabha from Mayurbhanj constituency in Odisha during the Atal Bihari Vajpayee Govt. Wikipedia

बाबूलाल मरांडी के बयान पर आदिवासी समाज में हो रही है काफी तीखी प्रतिक्रिया रांची से विशद कुमार, 11 मार्च 2021. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी (Former Jharkhand Chief Minister and BJP Legislature Party leader Babulal Marandi) द्वारा पिछले दिनों आरएसएस से जुड़ी जनजाति सुरक्षा मंच से कहा गया …

Read More »

एक षड़यंत्र के तहत आदिवासियों को हिन्दू बनाया कहा जा रहा है – देवेंद्र नाथ चंपिया

devendra nath champia

Adivasis are being called Hindus under a conspiracy – Devendra Nath Champia विशद कुमार बिहार विधानसभा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय आदिवासी इंडिजिनियस धर्म समन्वय समिति के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य देवेंद्र नाथ चंपिया ने भाजपा विधायक दल के नेता श्री बाबूलाल मरांडी के उस बयान की निंदा की है, जिसमें आरएसएस से जुड़ी जनजाति सुरक्षा मंच के मंच से …

Read More »

हिन्दी में डॉ. राम पुनियानी का लेख : गोलवलकर और हमारा सत्ताधारी दल

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

Dr Ram Puniyani’s article in Hindi: Golwalkar and our ruling party भारत के वर्तमान सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party -भाजपा) के नेता भले ही हमारे धर्मनिरपेक्ष-बहुवादी और संघात्मक संविधान के नाम पर शपथ लेते हों परन्तु सच यह है कि यह पार्टी देश को आरएसएस के एजेंडे (RSS agenda) में निर्धारित दिशा में ले जा रही है. …

Read More »

भारत में जाति प्रथा का उदय, जानिए सत्य क्या है

Dr. Ram Puniyani

जाति प्रथा का उदय भारत में “राजनीति की बलिवेदी पर इतिहास की बलि” शीर्षक डॉ. राम पुनियानी का यह आलेख हस्तक्षेप पर मूलतः 27 अक्तूबर 2014 को प्रकाशित हुआ था। राम पुनियानी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे में बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में प्रोफेसर थे, और उन्होंने दिसंबर 2004 में भारत में सांप्रदायिक सद्भाव के लिए पूरे समय काम करने के लिए स्वैच्छिक …

Read More »

हर क्षेत्र में सवर्ण वर्चस्व को बढ़ा रही है नरेन्द्र मोदी सरकार

Shaheed Jagdev-Karpoori Sandesh Yatra

विशद कुमार किसान आंदोलन के साथ एकजुटता में 18 फरवरी को 13वें व 19 फरवरी को 14वें  दिन सामाजिक न्याय आंदोलन (बिहार) और बहुजन स्टूडेंट्स यूनियन (बिहार) के बैनर तले ‘शहीद जगदेव-कर्पूरी संदेश यात्रा’ जारी रही। 18 फरवरी को भागलपुर जिले के शाहकुंड प्रखंड के बरियारपुर, हरनथ, समस्तीपुर, सतपरैया, इमादपुर, खैरा, लौगांय, खुलनी आदि गांवों में ग्रामीणों से संवाद के …

Read More »

आचार्य भिक्षु सुमित रत्न थेरा का साक्षात्कार – जाति धर्म के मतभेदों से ऊपर उठ अन्नदाताओं के आंदोलन का समर्थन करें

Acharya Bhikkhu Sumit Ratan thera, Convenor of Shraman Culture Movement India

Interview of Acharya Bhikkhu Sumit Ratan thera – Support Farmers Movement Above Differences of Caste Religion विद्या भूषण  रावत किसान आन्दोलन के समर्थन में देश भर के अंबेडकरवादियों और बहुजन समाज से अनुरोध करते हुए श्रमण संस्कृति आंदोलन भारत के संयोजक आचार्य भिक्षु सुमित रत्न थेरा (Acharya Bhikkhu Sumit Ratan thera, Convenor of Shraman Culture Movement India) ने कहा है …

Read More »

अच्छे दिन की आस में नया भारत

Review Union Budget 2021-22

आज से सात साल पहले आम चुनाव 2014 (General election 2014) में देश में एक नया स्लोगन लोगों की जुबान पर था जिसके बोल थे ‘अच्छे दिन आने वाले हैं‘ इस स्लोगन ने आम चुनाव 2014 के परिणाम को बदलने में महती भूमिका का निर्वहन किया। भारतीय जनमानस इसी स्लोगन के काल्पनिक वादों में अपने को रंग लिया और उसके …

Read More »

बढ़ती बेरोजगारी, निजीकरण का दुष्प्रभाव और आम बजट 2021-22

Review Union Budget 2021-22

आम बजट 2021-22 की समीक्षा | Review Union Budget 2021-22 Rising unemployment, side effects of privatization and Union budget 2021-22: Vijay Shankar Singh कहने को तो हमारा सालाना बजट आम बजट कहलाता है, पर यह धीरे-धीरे खास बजट बन गया है। आम लोगों की संसद में, आम लोगों के नाम पर, आम चुनावों द्वारा चुनी गयी सरकार द्वारा पेश किया …

Read More »

हृदय परिवर्तन का दलितवादी संस्करण : संक्रमण

Literature news

जापान के लेखक यासुनारी कबावाता की एक प्रसिद्ध कहानी है – ‘धूप का टुकड़ा’. इस कहानी में अव्यवस्थित पात्र किस तरह से व्यवस्थित होकर असामान्य से सामान्य स्थिति को प्राप्त करता है, इसका नायाब उदाहरण देखने को मिलता है. किसी भी स्थिर या अस्थिर पात्र का स्वाभाविक स्वीकार लेखन की क्षमता को जाहिर करता है. इस कहानी का पात्र घूरने …

Read More »

हिन्दू राष्ट्र का बजट : डंके की चोट पर देश बेचो अभियान

Review Union Budget 2021-22

मोदी सरकार के साथ एक बड़ा सुखद संयोग है। जब- जब यह सरकार जनविरोधी बड़े फैसले लेती है, इसके समर्थक 5 ऐसा कोई मुद्दा खड़ा कर देते हैं कि अवाम का ध्यान उससे भटक जाता है और सरकार जनाक्रोश से राहत पा जाती है। ऐसा ही इस बार आम बजट 2021- 22 (Review Union Budget 2021-22) के साथ हुआ। 1 …

Read More »

लेटरल भर्ती कर केंद्र सरकार संविधान पर कर रही है हमला : उपेंद्र कुशवाहा

Upendra Kushwaha At Motihari

The central government is attacking the Constitution by recruiting lateral: Upendra Kushwaha पटना, 6 फरवरी. केंद्र सरकार के लेटरल भर्ती पर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने सवाल उठाते हुए इसे संविधान पर हमला बताया है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने केंद्र सरकार के इस कदम को वंचित समाज के लिए अनुचित बताया है और कहा है कि इससे …

Read More »

डिजिटल इंडिया से “गोडसे ज्ञानशाला” क्या यही न्यू इंडिया है?

NathuRam Godse

“Godse Gyanashala” from Digital India Is this New India? कहां तो बुलेट ट्रेन का सपना दिखाया था, स्मार्ट सिटी का सपना दिखाया था. न्यू इंडिया, मेकिंग इंडिया, डिजिटल इंडिया, (New India, Making India, Digital India) न जाने कितने इंडिया के प्रोग्राम छाए रहे मीडिया से लेकर सरकार के मुखियाओं के मुंह पर. अच्छे दिन और सबका साथ सबका विकास तो …

Read More »

अंबानी-अडानी की ताकत से मदमस्त प्रधानमंत्री मोदी के असली इरादों को सामने ला दिया किसान आंदोलन ने

Narendra Modi flute

किसान आंदोलन, किसान सभा और राजनीतिक पार्टियाँ ARUN ON FARMER’S MOVEMENT AND ITS REVOLUTIONARY POTENTIALS Arun Maheshwari on Kisan Andolan and political parties भारत के वर्तमान किसान आंदोलन ने अपनी जो खास गति पकड़ ली है उससे आज लगता है जैसे भारत का पूरा राजनीतिक संस्थान हतप्रभ है। सिद्धांतों में कृषि क्षेत्र के समग्र संकट की बात तो तमाम राजनीतिक …

Read More »

फ्रांस एवं ऑस्ट्रिया में जिहादी हमलों के सन्दर्भ में इस्लाम और धर्म स्वातंत्र्य

Islam

Islam and religious freedom in the context of jihadist attacks in France and Austria क्या इस्लाम एक पिछड़ा हुआ और कट्टर सोच वाला धर्म है | Is Islam a backward and fundamentalist religion         यह एक सामान्य धारणा है कि इस्लाम एक पिछड़ा हुआ धर्म है जो प्राचीन नहीं तो कम-से-कम मध्यकालीन मान्यताओं से अब भी चिपका हुआ है. इस्लाम …

Read More »

कृषि क्रांति की दिशा : कारपोरेट हमले के खिलाफ जुझारू किसान

Modi government is Adani, Ambani's servant. Farmers and workers will uproot it - Randhir Singh Suman

The peasant movement has shaken the foundation of the Modi government. किसान आंदोलन ने मोदी सरकार की बुनियाद हिला दी है। उसके फासीवादी दमन की धज्जियां उड़ा दी हैं। अमेरिका, विश्व व्यापार संगठन (WTO) और कारपोरेट पूंजीपतियों के दबाव में आरएसएस/भाजपा द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलित हैं। इन कानूनों के कारण लाखों गरीब और छोटे …

Read More »

ललित सुरजन अजातशत्रु भी थे और आजानुबाहु भी

Lalit Surjan

Lalit Surjan is now immortal ललित सुरजन अब अमर हो गए During lockdown, it was found out that Lalit Surjan had cancer ललित सुरजन जी पंचतत्व में विलीन हो गए। छतीसगढ़ सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान से उनको अंतिम विदाई दी। कोरोना के बाद के लॉकडाउन के दौरान पता लगा था कि उनको कैंसर था। रायपुर में थे, वहां कैंसर …

Read More »

बाबासाहेब के मिशन को आगे बढ़ाने में व्यर्थ अंबेडकरवादी !

Dr. BhimRao Ambedkar

Special on the occasion of Mahaparinirvana Day of Bharat Ratna Baba Saheb Dr Bhimrao Ambedkar बाबासाहेब के मिशन : भारतरत्न बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर विशेष आज 6 दिसंबर है. 1956 में इसी दिन समय हर सा गया था, जब सदियों के दबे-कुचले अछूतों, सताए व दबाए गए लोगों तथा समाज के तिरस्कृत …

Read More »

संविधान के उद्देश्यों को व्यर्थ करने वाले चैम्पियन शासक हैं नरेन्द्र मोदी !

Narendra Modi flute

सभी प्रधानमंत्रियों ने की संविधान निर्माता के चेतावनी की अनदेखी ! 26 November, Constitution Day in Hindi आज 26 नवम्बर है संविधान दिवस ! 1949 में आज ही के दिन बाबा साहेब डॉ. आंबेडकर ने राष्ट्र को वह महान संविधान सौंपा था। भारतीय संविधान की उद्देशिका (Preamble of Indian Constitution) में भारत के लोगों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय …

Read More »

केबीसी में मनुस्मृति दहन पर प्रश्न से मचा बवाल

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

Hindi Article by Dr Ram Puniyani -KBC Question on Manusmiriti Burning by Dr Ambedkar ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) सबसे लोकप्रिय टीवी कार्यक्रमों में से एक है. इसमें भाग लेने वालों को भारी भरकम धनराशि पुरस्कार के रूप में प्राप्त होती है. हाल में कार्यक्रम के ‘कर्मवीर’ नामक एक विशेष एपीसोड में अमिताभ बच्चन ने पहले से तैयार स्क्रिप्ट के आधार …

Read More »

उत्तर प्रदेश में मायावती राज और दलित उत्पीड़न : उत्तर प्रदेश के दलितों को अपना गुलाम समझती हैं मायावती

Mayawati and ChandraShekhar Ravan

Mayawati Raj and Dalit oppression in Uttar Pradesh: Mayawati considers Dalits of Uttar Pradesh as her slaves (नोट: यद्यपि यह लेख कुछ पुराना है परंतु आज इसकी प्रासंगिकता और भी बढ़ जाती गई है जब मायावती का भाजपा प्रेम (Mayawati’s BJP love) खुल कर सामने आ गया है। वर्ष 2001 में भी मायावती ने भाजपा की मदद लेकर ही सरकार …

Read More »