Home » Tag Archives: शेष नारायण सिंह

Tag Archives: शेष नारायण सिंह

60 साल के बूढ़े या 60 साल के जवान : अब यादें ही शेष हैं

shesh narain singh

दादाजी यानी ललितजी (ललित सुरजन) कहा करते थे चाचा तीन प्रकार के होते हैं, चचा बुजुर्गवार, चचा यार और चचा बरखुरदार। यदि चाचा की उम्र आपके पिता की आयु के आसपास है, तो वे बुर्जुगवार हुए, यदि वे आपकी उम्र के आसपास हुए तो वे चचा यार हुए और अगर आपकी उम्र से छोटे हों तो चचा बरखुरदार हुए। गुजरे …

Read More »

शेष नारायण सिंह : एक यायावर!

shesh narain singh

शेष नारायण सिंह अचानक और असमय चले गए। परिजनों और मित्रों तथा चाहने वालों की विशाल संख्या को शोकाकुल छोड़ गए। हिंदी पत्रकारिता को, जिसमें खबरिया चैनलों की टीवी बहसें भी शामिल हैं, दरिद्र कर गए। और चार दशक से ज्यादा की प्यार और परस्पर सम्मान से गुलजार दोस्ती पर विराम लगाकर, मेरे जैसे दोस्तों को भीतर से खाली कर …

Read More »

शेष जी अद्वितीय थे, उन जैसा न कोई हुआ न होगा

शेष नारायण सिंह शेष नारायण सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं। वह हस्तक्षेप के संरक्षक हैं। वह इतिहास के वैज्ञानिक विश्लेषण के एक्सपर्ट हैं। नये पत्रकार उन्हें पढ़ते हुये बहुत कुछ सीख सकते हैं।

कल रात इत्मीनान से सोया। noida पुलिस कमिश्नर आलोक जी ने जानकारी दी कि Shesh भैया के लिए प्लाज़्मा की अतिरिक्त व्यवस्था भी लोकल स्तर पर कर ली गई है, ज़रूरत पड़ने पर इस्तेमाल होगा। मन को संतोष हुआ। अब ठीक होकर लौटेंगे शेष भैया। सुबह आँख खुली तो आलोक जी के मैसेज से ही पता चला शेष सर नहीं …

Read More »

शेष जी पर लिखने लगूं तो जगह कम पड़ जाएगी

shesh narain singh

1993 में दिल्ली आने से पहले तक बीबीसी सुनने का जबरदस्त रोग था..उन्हीं दिनों सुबह के कार्यक्रम में अखबारों की समीक्षा का एक कार्यक्रम आना शुरू हुआ। हफ्ते में करीब तीन दिनों तक एक गुरू गंभीर और स्पष्ट आवाज अखबारों की समीक्षा करती थी। 1994 में भारतीय जनसंचार संस्थान की ओर से हिंदी पत्ररकारिता के छात्रों का बड़ा समूह नोएडा …

Read More »