Home » Tag Archives: समीक्षा ठाकुर

Tag Archives: समीक्षा ठाकुर

“अमिट संबंध” : आत्मा-परमात्मा

Samiksha Thakur समीक्षा ठाकुर

“अमिट संबंध” : आत्मा-परमात्मा | “Indelible relation”: soul-divine   वसु बहती नद्य-नीलिमा मैं, तुम अम्ब धवल विस्तार प्रिय | शीशोद्गम श्यामल उर्मि मैं, तुम नीलकंठ कामारि प्रिय || तुम अम्ब धवल विस्तार प्रिय ||   मैं बहुल वर्ण खग-मृग विचरित, तुम अमिट सकल संसार प्रिय | मैं श्वेत-छवि द्वि-ध्रुव-ध्वनि हूँ , तुम महाखण्ड आकार प्रिय || तुम अम्ब धवल विस्तार प्रिय …

Read More »