“अमिट संबंध” : आत्मा-परमात्मा

“अमिट संबंध” : आत्मा-परमात्मा | “Indelible relation”: soul-divine   वसु बहती नद्य-नीलिमा मैं, तुम अम्ब धवल विस्तार प्रिय | शीशोद्गम श्यामल उर्मि मैं, तुम नीलकंठ कामारि

Read More