स्त्री को मनुष्य के रूप में देखा जाना चाहिए, जैसे पुरुष को देखा जाता है – अष्टभुजा शुक्ल

AshtBhuja Shukla

A woman should be seen as a man, just as a man is seen – Ashtabhuja Shukla अलवर, राजस्थान। सोमवार, 27 जुलाई 2020 को नोबल्स स्नातकोत्तर महाविद्यालय, रामगढ़, अलवर (राज ऋषि भर्तृहरि मत्स्य विश्वविद्यालय, अलवर से संबद्ध) एवं भर्तृहरि टाइम्स पाक्षिक समाचार पत्र, अलवर के संयुक्त तत्वावधान में एक दिवसीय राष्ट्रीय स्वरचित काव्यपाठ/ मूल्यांकन ई-संगोष्ठी-