Home » Tag Archives: हिंदी साहित्य

Tag Archives: हिंदी साहित्य

वेबोक्रेसी में विश्व हिंदी दिवस माने हिंदी के पराभव का आख्यान

world hindi day

विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी पर विशेष आज विश्व हिंदी दिवस (World Hindi Day 2022) है। यह लोकतंत्र के पराभव और वेबोक्रेसी के उत्थान का युग है। यह बौने को महान और महान को बौना बनाने का युग है। इस दिवस पर कम से कम एक पोस्ट यूनीकोड हिंदी में किसान समस्या पर जरूर लिखें। प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन | …

Read More »

इतिहास की प्रासंगिकता | हिंदी साहित्येतिहास की समस्याएं – पहला एपिसोड

relevance of history

Problems of Hindi Literary History – Episode 1 – Relevance of History इतिहास में कितने काल होते हैं? सामान्यीकरण क्या है इतिहास लेखन में सामान्यीकरण की भूमिका? इतिहास जानने के स्रोत कौन कौन से हैं? इतिहास की विषय वस्तु क्या है? Hindi Sahitya Ka Itihas और उसका विभाजन हिंदी साहित्य का संक्षिप्त इतिहास M.A. Hindi Literature हिंदी साहित्य का इतिहास …

Read More »

लोकमान्य तिलक की दृष्टि में हिंदी एवं वर्तमान हिंदी अनुसंधान कार्य की दिशा

Direction of Hindi and current Hindi research work in the opinion of Lokmanya Tilak किसी भी राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया की सबसे कमज़ोर कड़ी उसके वर्तमान द्वारा अतीत की उपेक्षा होती है. राष्ट्र – निर्माण की वैचारिकी के संदर्भ में इस समस्या को गहराई के साथ समझा जा सकता है. अतीत के विचारकों के संदर्भ में यदि इस समस्या पर …

Read More »

प्रकृति की सुंदरता को कविताओं में उतारने वाले कवि सुमित्रानंदन पंत

sumitranandan pant biography in hindi

सुमित्रानंदन पंत : व्यक्तित्व और कृतित्व (Sumitranandan Pant: Personality and Creativity) भारत माता ग्रामवासिनी खेतों में फैला है श्यामल धूल भरा मैला सा आँचल गंगा यमुना में आँसू जल, मिट्टी की प्रतिमा उदासिनी भारत माता ग्राम वासिनी और धरती का आँगन इठलाता शस्य श्यामला भू का यौवन अंतरिक्ष का हृदय लुभाता जौ गेहूँ की स्वर्णिम बाली भू का अंचल वैभवशाली …

Read More »

शिक्षक, लेखक और अरुणाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद का निधन

Mata-Prasad माता प्रसाद

Former Arunachal Pradesh Governor Mata Prasad passed away लखनऊ, 20 जनवरी. अरुणाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व राजस्व मंत्री माता प्रसाद का मंगलवार देर रात लखनऊ स्थित संजय गांधी स्नानकोत्तर आर्युविज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई)- Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences (SGPGI), Lucknow में निधन हो गया। वह लगभग 97 वर्ष के थे। अरुणाचल प्रदेश के पूर्व …

Read More »

पुस्तक समीक्षा : महफ़िल लूटना चाहते हैं तो मुक्तक रट लीजिए

Main Aisa Vaisa nahin hoon

मुक्तक क्या है हिंदी साहित्य में व्यवस्थित रूप से मुक्तकों को लिखने की परंपरा का विकास रीतिकाल में हुआ। इस दौर में कबीरदास, रहीम तथा मीरा बाई ने कई मुक्तक अथवा छंद लिखे। कविता का वह संक्षिप्त रूप जो दोहा अथवा मुक्तक शैली या विधा में लिखा जाए उसे मुक्तक कहा जाता है। कबीर आदि के बाद वर्तमान में यह …

Read More »