Home » Tag Archives: हिंदू धर्म

Tag Archives: हिंदू धर्म

बैरिस्टर जिन्ना और बैरिस्टर सावरकर के द्विराष्ट्र के सिद्धांतों का फेल होना ही बांग्लादेश का निर्माण होना है

sheikh mujibur rahman

बांग्लादेश के पचास साल | Fifty years of Bangladesh बंगला देश की स्वतंत्रता के अर्धशताब्दी के बहाने | Half-century for Bangladesh’s independence. बैरिस्टर जिन्ना और बैरिस्टर सावरकर के द्विराष्ट्र के सिद्धांतों का फेल होना यही बांग्लादेश का निर्माण होना है। आज इस ऐतिहासिक घटना की पचासवी वर्षगांठ का दिन है। 1917 को अंडमान की जेल से ही सावरकर ने अपनी …

Read More »

आदिवासी न हिंदू हैं न थे, बाबूलाल संघी गुलाम हैं, भाजपा- आरएसएस आदिवासी विरोधी हैं – सालखन

Salkhan Murmu is a socio-political activist working for the Tribal Empowerment in 5 states. He is also the founder and national president of Jharkhand Disom Party. He was twice the Member of Parliament in 12th and 13th Lok Sabha from Mayurbhanj constituency in Odisha during the Atal Bihari Vajpayee Govt. Wikipedia

बाबूलाल मरांडी के बयान पर आदिवासी समाज में हो रही है काफी तीखी प्रतिक्रिया रांची से विशद कुमार, 11 मार्च 2021. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी (Former Jharkhand Chief Minister and BJP Legislature Party leader Babulal Marandi) द्वारा पिछले दिनों आरएसएस से जुड़ी जनजाति सुरक्षा मंच से कहा गया …

Read More »

भारत में जाति प्रथा का उदय, जानिए सत्य क्या है

Dr. Ram Puniyani

जाति प्रथा का उदय भारत में “राजनीति की बलिवेदी पर इतिहास की बलि” शीर्षक डॉ. राम पुनियानी का यह आलेख हस्तक्षेप पर मूलतः 27 अक्तूबर 2014 को प्रकाशित हुआ था। राम पुनियानी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे में बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में प्रोफेसर थे, और उन्होंने दिसंबर 2004 में भारत में सांप्रदायिक सद्भाव के लिए पूरे समय काम करने के लिए स्वैच्छिक …

Read More »

विवेकानंद की देशभक्ति और गोडसे ज्ञानशाला

Today's Deshbandhu editorial

गोडसे ज्ञानशाला : गांधी के हत्यारे के विचारों का प्रचार-प्रसार भाजपा राज की पुलिस को ग़लत नहीं लगता। देशबन्धु में संपादकीय आज : Hindu Mahasabha opened Godse Gyanashala in Gwalior महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse, the killer of Mahatma Gandhi) को महिमामंडित करने की कोशिशें बीते कुछ बरसों में तेज हो गई हैं। कट्टर हिंदुत्व की सीढ़ियों …

Read More »

अमेरिका का कैपिटल हिल कांड : खतरनाक रूप धारण करती प्रभुवर्ग की सोच!

Donald Trump, Joe Biden

American Capitol Hill Scandal अमेरिका का कैपिटल हिल कांड पर एच. एल. दुसाध का लेख HL Dusadh’s article on US Capitol Hill scandal. अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया (Power transfer process in america) के दौरान वहां के संसद के बाहर और भीतर ट्रम्प के समर्थकों ने जो कुछ किया (जिसे अमेरिका का कैपिटल हिल कांड कहा जा रहा है), …

Read More »

काकोरी के शहीदों ने हिन्दू-मुस्लमान कट्टर धार्मिक संगठनों को बताया था अँगरेज़ हुक्मरानों के प्यादे

Ashfaqulla Khan and Ram Prasad Bismil

काकोरी के शहीदों की 93वीं बरसी पर | 93RD ANNIVERSARY OF KAKORI MARTYRS  REMEMBERING THEIR EGALITARIAN-SECULAR IDEOLOGY AND JOINT MARTYRDOMS CAN BE A BULWARK AGAINST THE HINDUTVA ONSLAUGHT उनकी समतामूलक-धर्मनिरपेक्ष और साझी शहादतों की विरासत को आत्मसात करके ही हम हिन्दुत्ववादी हमलों को विफल कर सकते हैं अगस्त 9, 1925 के दिन हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (Hindustan Republican Association) (HRA) से …

Read More »

जन आंदोलनों को धर्म के चश्मे से देखना आत्मघाती और राष्ट्रघाती… जब आप जैसी जनता होगी तो कोई भी शासक, तानाशाह बन ही जायेगा

Farmers Protest

Seeing mass movements through the prism of religion is suicidal अब एक नया तर्क गढ़ा जा रहा है कि इन किसानों को भड़काया जा रहा है। यह भड़काने का काम कांग्रेस कर रही है। कांग्रेस एक विपक्षी दल है और इन कृषि कानूनों को चूंकि सरकार जो भाजपा की है, पारित किया है, तो यह इल्ज़ाम आसानी से कांग्रेस के …

Read More »

आज है साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, भूल कर भी न करें ये काम

lunar eclipse of the year

Today is the last lunar eclipse of the year 2020 नई दिल्ली, 30 नवंबर 2020. आज 30 नवंबर 2020 का दिन काफी खास है क्योंकि आज कार्तिक पूर्णिमा और देव दीपावली है तो वहीं कोरोना महामारी के बीच आज इस वर्ष का आखिरी चंद्रग्रहण (Last lunar eclipse of the year 2020) भी लगने जा रहा है। The last lunar eclipse …

Read More »

अमेरिका में डाइवर्सिटी से फहराया हिंदू मेरिट का परचम!

Kamala Harris

कमला हैरिस के अमेरिकी उपराष्ट्रपति बनने पर एच एल दुसाध की त्वरित प्रतिक्रिया! HL Dusadh’s quick reaction to Kamala Harris becoming US Vice President! अमेरिकी चुनाव में कमला हैरिस ने उपराष्ट्रपति बनकर इतिहास रच दिया है. उनकी तारीफ करते हुए प्रेसिडेंट जो बाइडन ने उन्हें भारतीय बताने के बजाय एक दक्षिण एशियाई बताते हुए कहा है, ‘मुझे एक शानदार उपराष्ट्रपति …

Read More »

संस्मरण – दंगा 1984 : देश की एकता के लिये अभिशाप हैं धर्म और जाति से प्रेरित दंगे

1984 riots memoir of retired senior IPS officer Vijay Shankar Singh

Riots inspired by religion and caste are a curse for the unity of the country. धर्म के नाम पर हुए व्यापक दंगों या नरसंहारों को याद रखा जाना चाहिए। उन्हें याद रखना इसलिए भी ज़रूरी है कि ताकि धर्मान्धता या अन्य पागलपन के दौर में हम, जो अक्सर भूल जाते हैं कि हम एक अदद इंसान भी हैं, उसे न …

Read More »

शासक तय करें वे गांधी के साथ हैं या गोडसे के – राम पुनियानी

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

जानिए संयुक्त राष्ट्र संघ गांधी के जन्मदिवस को अहिंसा दिवस के रूप में मनाता है Know the United Nations celebrates Gandhi’s birthday as Ahimsa Day | Report on world non-violence day The International Day of Non-Violence is marked on 2 October, the birthday of Mahatma Gandhi, leader of the Indian independence movement and pioneer of the philosophy and strategy of …

Read More »

शिमला डायरी : पीछे छूट गई धूल को समेट लाया कौन खानाबदोश

Shimla diary Book by Pramod Ranjan

‘शिमला डायरी’ (Shimla diary) अपने समय और समाज की एक ऐसी साहित्यिक-सांस्कृतिक डायरी और दस्तावेज है, जिसका एक अहम हिस्सा हिंदी पत्रकारिता (Hindi journalism) की दुनिया है। इसका विहंगम अवलोकन किया है चर्चित कवि और पत्रकार प्रमोद कौंसवाल (journalist Pramod Kaunswal) ने, जिन्होंने काफी समय तक चंडीगढ़ में रहते हुए खुद शिमला, चंडीगढ़ और पंजाब की पत्रकारिता की दुनिया को बहुत …

Read More »

राम वन गमन पथ : आदिवासी पेनगुड़ियों को मंदिरों में बदलने का आक्रामक कांग्रेसी हिंदुत्ववादी अभियान

Ram Van Gaman Path in Hindi

Ram Van Gaman Path: Aggressive Congress Hindutva campaign to convert tribal Pain Gudis into temples किसी सभ्यता और संस्कृति को नष्ट करना हो, तो उसके पास जो जल, जंगल, जमीन, खनिज व अन्य प्राकृतिक संपदा है, उस पर कब्जा करो। वह सभ्यता अपने आप मर जाएगी। आर्य और अनार्य/द्रविड़ों के संघर्ष का इतिहास (History of Arya and non-Aryan / Dravidian …

Read More »

मर्यादा पुरुषोत्तम राम को तीसरा वनवास

उनके राम और अपने राम : राम के सच्चे भक्त, संघ के राम, राम की सनातन मूरत, श्रीराम का भव्य मंदिर, श्रीराम का भव्य मंदिर, अयोध्या, राम-मंदिर के लिए भूमि-पूजन, राममंदिर आंदोलन, राम की अनंत महिमा,

Third exile to Maryada Purushottam Ram राम मंदिर का भूमि पूजन या हिंदू राष्ट्र का शिलान्यास Bhoomi Poojan of Ram temple or the foundation stone of Hindu nation ‘‘पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे कि नजर आए वहां खून के गहरे धब्बे पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे राम ये कहते हुए अपने दुआरे …

Read More »

मुरारी बापू व साध्वी चित्रलेखा क्यों हुए आलोचना के शिकार?

Morari Bapu

Why did Morari Bapu and Sadhvi Chitralekha become victims of criticism? यह अजीब विरोधाभास है कि धर्म का असल मकसद आदमी को जिस मंजिल तक पहुंचाना है, उस पर पहुंचने के बाद उसी धर्म के लोग विरोध में खड़े हो जाते हैं। प्रसिद्ध कथावाचक मुरारी बापू व साध्वी चित्रलेखा इसके साक्षात व ताजातरीन उदाहरण हैं। बेशक आज वे जिस मानसिक …

Read More »

हमारा दुर्भाग्य है कि राष्ट्र सिर्फ लाठी भांजने वालों के हाथ में चला गया है

RSS Half Pants

राम मंदिर के शिलान्यास का भव्य सरकारी आयोजन किस बात के संकेत देता है ? What does the grand government event of the foundation stone of the Ram temple indicate? आज सभ्यता के सबसे बड़े संकट के काल में भारत में राम जन्मभूमि मंदिर के शिलान्यास का जो भव्य आडंबरपूर्ण कार्यक्रम संपन्न हुआ वह भारतीय राज्य की धार्मिक निष्ठा की …

Read More »

अगस्त 5, 2020 : भारतीय गणतंत्र का ‘वध’

Ram Janm Bhoomi Poojan

THE ‘VADH’/ANNIHILATION OF THE INDIAN REPUBLIC संप्रभु-लोकतांत्रिक भारतीय गणतंत्र 26 जनवरी, 1950 को एक ऐतिहासिक संविधान के साथ अस्तित्व में आया, जिसकी प्रस्तावना में दृढ़ प्रतिबद्धता के साथ यह घोषणा की गई थी कि “न्याय, सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए तथा, उन सबमें व्यक्ति …

Read More »

देश बेचना बंद करो! लोकतांत्रिक-सेक्युलर मुल्क के बतौर भारत की जीवन यात्रा में 5 अगस्त ‘काला दिन’

Rinku Yadav Rajeev Yadav

बहुजनों के लिए 5 अगस्त ‘काला दिन‘ नई दिल्ली/ लखनऊ/ पटना 05 अगस्त 2020. रिहाई मंच, सामाजिक न्याय आंदोलन (बिहार), बिहार फुले-अंबेडकर युवा मंच, बहुजन स्टूडेन्ट्स यूनियन, सामाजिक न्याय मंच, अब-सब मोर्चा सहित कई संगठनों की ओर राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन व शुभारंभ के आयोजन में प्रधानमंत्री और यूपी के मुख्यमंत्री के शामिल होने की कठोर आलोचना की …

Read More »

उनके राम और अपने राम : राम के सच्चे भक्त संघ के राम के बदले अपने राम की सनातन मूरत को नहीं छोड़ देंगे

उनके राम और अपने राम : राम के सच्चे भक्त, संघ के राम, राम की सनातन मूरत, श्रीराम का भव्य मंदिर, श्रीराम का भव्य मंदिर, अयोध्या, राम-मंदिर के लिए भूमि-पूजन, राममंदिर आंदोलन, राम की अनंत महिमा,

(यह लेख करीब 20-22 साल पहले का होगा। ‘जनसत्ता’ में छपा था. कल अयोध्या में राम-मंदिर के लिए भूमि-पूजन। ऐसे ही लगा की लेख फिर से जारी कर दिया जाए- प्रेम सिंह) संघ संप्रदाय अपनी यह घोषणा दोहराता रहता है कि अयोध्या में जल्दी ही श्रीराम का भव्य मंदिर बनाया जाएगा। बीच-बीच में यह खबर भी आती रहती है कि …

Read More »

जानिए क्यों जरूरी है वसीयत और क्या है तरीका

Law and Justice

क्या है वसीयत – What is will | How to write a Will | वसीयत के नियम और कानून मौत के बाद अपनी जायदाद के इस्तेमाल का हक किसी को सौंपने का फैसला अपने जीते जी लेना वसीयत कहलाता है। वसीयत करने वाला वसीयत में यह बताता है कि उसकी मौत के बाद उसकी जायदाद का कितना हिस्सा किसे मिलेगा। क्यों …

Read More »

क्या हम कम बातें कर सकते हैं? मोदी के उत्थान में असली भूमिका प्रगतिशील और धर्मनिरपेक्ष नेतृत्व की है

डॉ. प्रेम सिंह, Dr. Prem Singh Dept. of Hindi University of Delhi Delhi - 110007 (INDIA) Former Fellow Indian Institute of Advanced Study, Shimla India Former Visiting Professor Center of Oriental Studies Vilnius University Lithuania Former Visiting Professor Center of Eastern Languages and Cultures Dept. of Indology Sofia University Sofia Bulgaria

Can we talk less? Progressive and secular leadership is the real role in Modi’s rise. सभ्यता के बारे में यह जाना-माना सच है कि दर्शन, अध्यात्म, धर्म, विज्ञान, कला, साहित्य, अध्ययन-मनन के अन्य विविध शास्त्र, स्वतंत्र अध्ययन-मनन आदि में गहरे डूबा व्यक्ति हमेशा कम बातें करता है. गांधी की अवधारणा लें तो राजनीति के बारे में भी यह सच माना …

Read More »