अगस्त 5, 2020 : भारतीय गणतंत्र का ‘वध’

Ram Janm Bhoomi Poojan

THE ‘VADH’/ANNIHILATION OF THE INDIAN REPUBLIC संप्रभु-लोकतांत्रिक भारतीय गणतंत्र 26 जनवरी, 1950 को एक ऐतिहासिक संविधान के साथ अस्तित्व में आया, जिसकी प्रस्तावना में दृढ़ प्रतिबद्धता के साथ यह घोषणा की गई थी कि “न्याय, सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के

कृषि-खाद्यान्न बाजार कंपनियों के हवाले, आजाद भारत का काला दिन, मोदीराज में कंपनीराज की हुई वापसी -अजीत यादव

narendra modi flute

कृषि व कृषि -खाद्यान्न बाजार को कंपनियों के हवाले करने मोदी सरकार के तीनों अध्यादेशों को मिली राष्ट्रपति की मंजूरी अध्यादेशों की वापसी को गोलबंदी शुरू हुई लोकमोर्चा ने भेजा सभी विपक्षी दलों और किसान संगठनों को पत्र, साझा संघर्ष की अपील लखनऊ, 6 जून 2020, कृषि और कृषि खाद्यान्न बाजार को कारपोरेट कंपनियों के

बिजली निजीकरण के विरोध में देश के 15 लाख बिजली कर्मचारियों ने मनाया काला दिवस

15 lakh electricity employees of the country celebrated Black Day in protest against power privatization

15 lakh electricity employees of the country celebrated Black Day in protest against power privatization देश के 15 लाख बिजली कर्मचारियों व इंजीनियरों के साथ उप्र के बिजली कर्मियों ने इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 के विरोध में काली पट्टी बाँध कर विरोध दर्ज किया लखनऊ, 01 जून 2020. नेशनल कोआर्डिनेशन कमीटी ऑफ इलेक्ट्रिसिटी इम्पलॉईस एन्ड

महावीर की क्रांति का अर्थ है संयम 

lord-mahavira-picturelord-mahavira-picture

Mahavir’s revolution means restraint भगवान महावीर जयंती- 6 अप्रैल, 2020 | Bhagwan Mahavir Jayanti – April 6, 2020 कोरोना वायरस के महासंकट से मुक्ति की अनेक योजनाएं करवटें ले रही हैं। आइए, इस वर्ष हम महावीर जयन्ती मनाते हुए कोरोना मुक्ति के लिये संयम एवं अनुशासन के गुणात्मक पड़ावों पर ठहरें, वहां से शक्ति, आस्था,

कैंसर : कारण, लक्षण और निदान

World Cancer Day - February 4, 2020

“Cancer: Causes, Symptoms and Diagnosis” विश्व कैंसर दिवस (4 फरवरी) पर विशेष Special on World Cancer Day (4 February) ‘कैंसर’ एक ऐसा शब्द है, जिसे अपने किसी परिजन के लिए डॉक्टर के मुंह से सुनते ही परिवार के तमाम सदस्यों के पैरों तले की जमीन खिसक जाती है। दरअसल परिजनों को अपने परिवार के उस सदस्य