खजूरे का हिंदी साहित्य  

Literature, art, music, poetry, story, drama, satire ... and other genres

लंबे समय से हिंदी साहित्य के अध्यापन (Teaching of Hindi literature) से जुड़े अनिरुद्ध कुमार का यह व्यंग्य (Anirudh Kumar’s satire) बातों ही बातों में साहित्येतिहास और भाषा-विमर्श की धर्म और जाति पर आधारित राजनीति की पोल खोलता है और उस पर कई गंभीर सवाल खड़े करता है – व्यंग्य  -अनिरुद्ध कुमार रे खजूरे … जी