“भगत सिंह की विरासत का दावेदार है वामपंथ“–प्रोफ़ेसर चमन लाल

Process of Bhagat Singh becoming Bhagat Singh

भगत सिंह को सब अपनाना चाहते हैं लेकिन भगत सिंह की वैचारिक विरासत का संवाहक एवं दावेदार वामपंथ है। भगत सिंह मसीहा नहीं थे और ना ही मसीहाई में विश्वास रखते थे। भगत सिंह में वर्गीय समझ थी जो तर्कपूर्ण अध्ययन से मिलती है।