तानाशाहों जेपी ने जो इंदिरा से कहा था उसे याद रखो – “विनाशकाले विपरीत बुद्धि” ! क्योंकि लोकतंत्र का खात्मा अराजकता को दावत है

NRC par ghiri BJP BJP in crisis over NRC

मानवाधिकारों की सार्वभौम घोषणा (The Universal Declaration of Human Rights) की धारा 11 कहती है, “दंडनीय अपराध के प्रत्येक आरोपी को तब तक निर्दोष माना जाएगा जब तक उसे public trial के माध्यम से कानूनन अपराधी साबित नहीं कर दिया जाता……” हमारे न्यायशास्त्र की मूल अवधारणा (Basic concept of our jurisprudence) है कि सौ अपराधी

हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता – पलाश विश्वास

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

We are citizens of India and no one can give us citizenship सीएए से नागरिकता मिल भी गई तो एनपीआर, एनआरसी से नागरिकता बचेगी नहीं। हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता। सीएए हिंदुओं को नागरिकता देने का नहीं, आम जनता को नागरिकता साबित करने की बाध्यता और नागरिकता छीनने

भारत के लिए अभिशाप बन चुका है मोदी सरकार का सांप्रदायिक एजेंडा ! वह भारत को श्रीलंका, सीरिया या म्यांमार बनाना चाहते हैं ?

Amit Shah Narendtra Modi

The communal agenda of the Modi government has become a curse for India! Does he want to make India Sri Lanka, Syria or Myanmar? देश आर्थिक तौर से खोखला सामाजिक तौर से बिखरा और दुनिया में अलग-थलग पड़ गया है The country is currently stuck in a maze. देश इस समय एक चक्रव्यूह में फंस

दंगाई योगी से वसूला जाए गोरखपुर, मऊ, आज़मगढ़ दंगों में हुए नुकसान का हर्जाना : शाहनवाज़ आलम

Yogi Adityanath

आंदोलनकारियों के पोस्टर लगवाकर सरकार अपने गुंडों को हमले के लिए उकसा रही है : शाहनवाज़ आलम गोरखपुर, मऊ, आज़मगढ़ दंगों में नुकसान हुई सार्वजनिक संपत्ति का हर्जाना योगी से वसूला जाना चाहिए लखनऊ, 6 मार्च 2020. लखनऊ के सीएए-एनआरसी विरोधी आंदोलनकारियों की तस्वीरों (Pictures of anti-CAA-NRC agitators of Lucknow) को सरकार द्वारा चौराहों पर

कांग्रेस की बादल को नसीहत, सीएए को लेकर मोदी सरकार पर बरसने के बजाय बहू से इस्तीफा दिलवाएं

Prakash Singh Badal

Congress advises Badal, instead of shouting on Modi government on CAA, get resignation from daughter-in-law चंडीगढ़ 02 मार्च 2020. कांग्रेस ने शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के संरक्षक व पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को नसीहत दी है कि वह नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर बरसने के बजाय अपनी पुत्रवधु हरसिमरत

सर्वोच्च न्यायालय ने दिल्ली हिंसा को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया

The Supreme Court of India. (File Photo: IANS)

Supreme Court calls Delhi violence ‘unfortunate’ नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. नागरिकता (संशोधन) कानून को लेकर दिल्ली के तमाम इलाकों में हो रही हिंसा को सर्वोच्च न्यायालय (Supreme court) ने ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है। शीर्ष अदालत ने कहा, “जो कुछ भी हो रहा है वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसे नहीं होना चाहिए था।” विस्तृत समाचार की

सीएए, एनपीआर और एनआरसी की क्रोनोलाजी का पर्दाफाश, भाजपा सरकार के झूठ हुए बेनकाब – त्रिवेदी

Amit Shah Narendtra Modi

नोटबंदी की ही तरह पूरे देश को नागरिकता के लिये कतार में खड़ा करना चाहती है मोदी सरकार रायपुर/24 फरवरी 2020। सीएए, एनपीआर और एनआरसी की क्रोनोलाजी का पर्दाफाश करते हुए प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने मोदी सरकार की नीति और मंशा पर सवाल खड़ा किये  हैं।

आजादी से पहले देश अनपढ़ जरूर था, लेकिन धर्मांध हरगिज़ नहीं

News and views on CAB

India is still a country of villages. Those who led the freedom struggle were understood by this very rule. बदलाव का सपना देखने वाले लोग न जाने क्यों भूल जाते हैं कि भारत अब भी गांवों का देश है। आजादी की लड़ाई का नेतृत्व करने वालों ने इस बहुत कायदे से समझा था। ब्रिटिश हुकूमत

योगी राज में उप्र खुली जेल में तब्दील, निहत्थी महिलाओं व बच्चों के अहिंसक धरने पर पुलिस हिंसा कायरतापूर्ण

Sandeep Pandey

आज़मगढ़ के बिलरियागंज के मौलाना जौहर अली पार्क में महिलाओं के शांतिपूर्ण धरने पर 5 फरवरी को हुई पुलिस हिंसा का मामला पुलिस हिंसा पर सुनवाई कर रही इलाहाबाद उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ द्वारा नियुक्त एमिकस क्यूरी रमेश कुमार ने आज़मगढ़ का दौरा कर पीड़ितों के बयान दर्ज किए, पुलिस हिंसा की

सीएए : ये मनुवादी जनतंत्र से चिढ़ते हैं, इनका निशाना मुसलमान नहीं वंचित-बहुजन ही हैं – प्रकाश अंबेडकर

Prakash Ambedkar

संविधान बचाओ ! देश बचाओ !! आप जानते हैं कि पिछले 50 दिनों से अधिक समय से दिल्ली के शाहीन बाग़ इसी शहर के तमाम जगहों पर और देश के विभिन्न भागों में सीएए, एनआरसी, और एनपीआर के खिलाफ महिलाएं तथा पुरुष 24×7 बैठे हुए हैं. इन देशभक्तों और संविधान प्रेमियों के जज़बे और जोश