डब्ल्यूएचओ ने चेताया, कोविड-19 का सबसे बुरा दौर आना अभी बाकी है

World Health Organization WHO

WHO warns, worst round of COVID-19 is yet to come नई दिल्ली, 08 जुलाई 2020. विश्व स्वास्थ्य संगठन– World Health Organization (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि दुनिया भर में कोविड-19 संक्रमण का सबसे बुरा दौर (worst phase of COVID-19 infection,) आना बाकी है। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. तेद्रोस गेब्रियेसस ने कहा है, “संक्रमण का

कोविड-19 के संभावित चिकित्सीय विकल्प हो सकते हैं चाय और हरड़ : आईआईटी दिल्ली

Camellia sinensis Terminalia chebula

Tea and Harad can be potential medical options of COVID-19: IIT Delhi नई दिल्ली, 4 जुलाई (उमाशंकर मिश्र): दुनिया भर के वैज्ञानिक कोविड-19 से लड़ने के लिए वैक्सीन और दवाओं के विकास पर काम कर रहे हैं। इस दिशा में कार्य करते हुए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली {Indian Institute of Technology (IIT) Delhi} के

महिलाओं को सहारा देने वाली ही आज खुद बेसहारा, एक साल से नहीं मिला वेतन, नौकरी से निकालने का मिला नोटिस

Asha Jyoti Women's Helpline 181,181 वुमन हेल्पलाइन,

181 वुमन हेल्पलाइन में कार्मिकों की मांगों पर वर्कर्स फ्रंट ने अपर श्रमायुक्त लखनऊ को दिया पत्रक लखनऊ 24 जून 2020. उत्तर प्रदेश सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सन 2015 में शुरू की गई आशा ज्योति वूमेन हेल्पलाइन 181 (Asha Jyoti Women’s Helpline 181) में काम करने वाले 351, जिनमें ज्यादातर महिलाएं

जब विज्ञान धर्म बनने लगे तो हमें दुनिया को सुंदर बनाने के उसके दावों पर संदेह करना ही होगा

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Credit NIAID NIH

धर्म में विज्ञान की तलाश करना उतना बुरा नहीं है, जितना कि विज्ञान को धर्म बनाने की कोशिश करना। विज्ञान की अमूर्त दुनिया और विवेक | Intangible world of science and wisdom कोविड-19 (COVID-19) से संबंधित तथ्यों को लेकर, जिस प्रकार के असमंजस की स्थिति है, उससे हममें से कई किंकर्तव्यविमूढ़ हैं। अनेक लोगों को

व्यावसायिक उत्पादन के लिए हस्तांतरित की गई नौसेना के पीपीई सूट की तकनीक

Navy's PPE suit

Technique of Navy’s PPE suit transferred for commercial production नई दिल्ली, 18 जून (उमाशंकर मिश्र) : भारतीय नौसेना के मुंबई स्थित आईएनएचएस अस्विनी अस्पताल (INHS Asvini hospital: Latest News) से संबद्ध इंस्टीट्यूट ऑफ नेवल मेडिसिन  (institute of naval medicine mumbai) के नवाचार प्रकोष्ठ द्वारा विकसित नवरक्षक नामक पीपीई सूट के विनिर्माण की तकनीकी जानकारी का लाइसेंस

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विशेषज्ञों ने बीमारियों से लड़ने में बताया अहम 

Health News in Hindi

Artificial intelligence techniques can be useful in detecting diseases. नई दिल्ली, 18 जून (उमाशंकर मिश्र ): “सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स), निमोनिया और दूसरी बीमारियों का पता लगाने में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक उपयोगी हो सकती है।” आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में कार्यरत विशेषज्ञ डॉ वैभव आनंद देशपांडे ने यह बात कही है। वह राष्ट्रीय पर्यावरण

कोविड-19 से जुड़े शोध को बढ़ावा देने के लिए नई साझेदारी

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Colorized scanning electron micrograph of a cell showing morphological signs of apoptosis, infected with SARS-COV-2 virus particles (green), isolated from a patient sample. Image captured at the NIAID Integrated Research Facility (IRF) in Fort Detrick, Maryland.

New partnership to promote research related to COVID-19 नई दिल्ली, 10 जून (उमाशंकर मिश्र ):  कोविड-19 के प्रकोप के कारण कई नयी चुनौतियां उभरी हैं। हालाँकि, इस महामारी ने अनुसंधान के अवसर भी प्रदान किए हैं, जिससे भारत को इस तरह की चुनौतियों से लड़ने और भविष्य के लिए खुद को तैयार करने में मदद

कोविड-19 : केजरीवाल ने माना दिल्ली में 31 जुलाई तक अस्सी हजार बेड की जरूरत

Arvind Kejriwal

COVID-19: Kejriwal admits to needing eighty thousand beds by July 31 in Delhi नई दिल्ली, 10 जून 2020. दिल्ली के अस्पतालों में कोरोना रोगियों के उपचार (Treatment of corona patients in hospitals in Delhi) हेतु डेढ़ लाख बेड की आवश्यकता होगी। 31 जुलाई तक दिल्ली में 80000 बेड की व्यवस्था की जानी है। अतिरिक्त बेड

मोदी सरकार ने निकाला पर्यावरण नष्ट करने का आपदा में अवसर

climate change

क्या यह वास्तव में भारत में ‘प्रकृति के लिए समय‘ है? | Is it really ‘Time for Nature’ in India? While India Focused On COVID-19, Here’s What Govt Did To The Environment पूरा विश्व आज विश्व पर्यावरण दिवस मना रहा है। ‘समय के लिए प्रकृति’ (‘Time for Nature’) इस वर्ष के विश्व पर्यावरण दिवस के लिए

सीएसआईआर-सीएमईआरआई ने विकसित किया नया वेंटिलेटर

CSIR-CMERI develops new indigenous ventilator

CSIR-CMERI develops new indigenous ventilator नई दिल्ली, 3 जून (उमाशंकर मिश्र ): दुर्गापुर स्थित केंद्रीय यांत्रिक अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (सीएमईआरआई– CMERI) के शोधकर्ताओं ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्वदेशी तकनीक पर आधारित एक नया वेंटिलेटर विकसित किया है। इस वेंटिलेटर का अनावरण बुधवार को सीएसआईआर-सीएमईआरआई के निदेशक प्रोफेसर (डॉ) हरीश हिरानी और हेल्थ