निराशा में हौसले की तस्वीर : कौन से राम ने यह आकर कहा कि लोगों का घर जलाओ, मासूमों को बेघर करो ?

Idgah relief camp of Delhi government

मुस्तफाबाद का ईदगाह (Idgah of Mustafabad) वही जगह है, जहां 25 तारीख की शाम तक बहुत सी महिलाएं और पुरुष अपने परिवार के साथ जान बचाकर भाग यहां पनाह लेने आए थे, आज उन्हें पन्द्रह दिन से ज्यादा हो गए लेकिन वहां जिन्दगी आज भी बिखरी हुई है, वहां रह रहे लोगो को रोज-रोज की

दर्द के ‘ईद’ गाह में राहत का पर्व, समाज सेवा वालों का चारागाह भी है दिल्ली सरकार का ईदगाह राहत शिविर

Idgah relief camp of Delhi government

Idgah Relief Camp of Delhi Government is also a pasture for social workers ‘‘क्या तुम लोगों का नाम मोबाईल में रजिस्टर्ड हो गया ? नहीं हुआ तो जान लेना आज शाम से यहां नहीं रह पाओगे।’’ लोगों को दर्द व जुल्म के मंजर को सुनते हुए भीगती आंखों और शून्य हो रहे दिमाग ने तारतम्य

सीएए : नागरिकता का पता नहीं पर बढ़े पत्रकारों पर हमले, अकेले दिल्ली में 2.5 माह में 3 दर्जन पत्रकारों पर हमला, पुलिस भी हमलावरों में शामिल

Assault on Journalists

CAA: Attacks on journalists increased, 3 dozen journalists attacked in 2.5 months in Delhi alone, police also included in attackers नई दिल्ली, 09 मार्च इन दिनों देश में प्रेस की आजादी गंभीर खतरे में आ गई है। पूरे देश में पिछले कुछ दिनों में पत्रकारों पर हमले बढ़े हैं (Attacks on journalists have increased)। अकेले

दिल्ली हिंसा : धरने पर बैठी कांग्रेस, मांगा गृह मंत्री का इस्तीफा, हंगामे के बाद लोकसभा स्थगित

Parliament of India

Delhi violence: Congress sitting on dharna, demands resignation of home minister, Lok Sabha adjourned after ruckus सत्र शुरू होते ही दिल्ली हिंसा पर विपक्ष के हंगामे को देखकर स्पीकर ओम बिरला ने बिहार के बाल्मीकि नगर क्षेत्र से सांसद बैजनाथ महतो को श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा को दो बजे तक के लिए स्थगित कर

बजट सत्र : दिल्ली हिंसा पर कांग्रेस ने लोकसभा में की चर्चा की मांग

congress

Budget session: Congress demands discussion in LokSabha on Delhi violence नई दिल्ली, 2 मार्च 2020. कांग्रेस ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा (Communal violence in the national capital Delhi) को लेकर सोमवार को लोकसभा में इस बाबत चर्चा की मांग की है। पार्टी ने इस मुद्दे पर चर्चा कराने को लेकर नोटिस दिया

सीएए : नागरिकता का पता नहीं पर दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 36 हुई

National News

Death toll in Delhi violence is 36 नई दिल्ली, 27 फरवरी 2020.  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (National Capital Delhi) के उत्तर-पूर्वी जिले में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोधियों और समर्थकों के बीच झड़प के बाद भड़की हिंसा के पांचवें दिन मृतकों की संख्या बढ़कर 36 हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरु तेगबहादुर अस्पताल ने

दिल्ली हिंसा : थाने में पुलिस ने की वकीलों की पिटाई, महिला अधिवक्ता को भी नहीं बख्शा !

Breaking news

Delhi Violence: Police beat up lawyers in police station, women lawyer is not spared either! नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. दिल्ली में बिगड़ते माहौल के बीच एक और भयावह खबर आई है। अधिवक्ताओं के एक समूह ने आरोप लगाया है कि उन्हें जगतपुरी पुलिस स्टेशन में पुलिस द्वारा पीटा गया। एडवोकेट अवनि बंसल, अनस तनवीर,

दिल्ली हिंसा : सोनिया ने अमित शाह के इस्तीफे की मांग की, केजरीवाल को भी ठहराया जिम्मेदार

Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

Delhi violence: Sonia demands Amit Shah’s resignation, holds Kejriwal responsible नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. कांग्रेस कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की बुधवार को दो घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में विचार-विमर्श के बाद, पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मांग करते हुए कहा है कि दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाके में हुई हिंसा

दिल्ली हिंसा : रूबिका ने कहा इंटरनेट बंद कर दिया जाए, आचार्य बोले नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है

Acharya Pramod Krishnam.jpg

Delhi violence: Rubika Liyaquat said that internet should be shut down, Acharya said that the “virus” of hate has penetrated into the hearts नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हिंसक वीडियोज को लेकर जब चर्चित एंकर रूबिका लियाकत ने सुझाव दिया कि इंटरनेट सेवा

सर्वोच्च न्यायालय ने दिल्ली हिंसा को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया

The Supreme Court of India. (File Photo: IANS)

Supreme Court calls Delhi violence ‘unfortunate’ नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. नागरिकता (संशोधन) कानून को लेकर दिल्ली के तमाम इलाकों में हो रही हिंसा को सर्वोच्च न्यायालय (Supreme court) ने ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है। शीर्ष अदालत ने कहा, “जो कुछ भी हो रहा है वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसे नहीं होना चाहिए था।” विस्तृत समाचार की