भारत सरकार ने दिया विस्थापित मजदूरों को मई दिवस का तोहफा : हँसें या रोयें  ?

Ghar Se Door Bharat Ka Majdoor

Government of India gave May Day gift to displaced laborers: Laugh or cry? लॉकडाउन के पांच सप्ताह (Five weeks of lockdown) के बाद सरकार का यह फैसला कि देश में अनेक जगह फंसे हुए विस्थापित श्रमिकों को अपने गाँव-घर जाने लिये विशेष ट्रेनें चलाई जायेंगी, मई दिवस के एक तोहफे के रूप में सामने आया।