इस्लामोफोबिया और साम्प्रदायिकता के वैश्विक प्रभाव

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

Hindi Article of Dr Ram Puniyani – Islamophobia Global Fall Out पैगंबर हजरत मोहम्मद के बारे में आपत्तिजनक पोस्टों (Offensive posts about Prophet Hazrat Mohammad) और कुरान की प्रतियां जलाने की प्रतिक्रिया स्वरूप (In response to burning copies of Quran) अभी हाल में अनेक हिंसक घटनाएं हुई हैं. नवीन कुमार, जो बेंगलुरू के एक कांग्रेस

डॉ. जफरुल इस्लाम खान के आवास पर गृह मंत्रालय/ मोदी सरकार के इशारे पर दिल्ली पुलिस का छापा बेहद निंदनीय व शर्मनाक कृत्य

Delhi Police raids at the residence of Dr. Zafarul Islam Khan, Chairman of Delhi Minorities Commission

Delhi Police raids at the residence of Dr. Zafarul Islam Khan, Chairman of Delhi Minorities Commission. दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन डॉ. जफरुल इस्लाम खान के आवास पर गृह मंत्रालय/ मोदी सरकार के इशारे पर दिल्ली पुलिस का छापा बेहद निंदनीय व शर्मनाक कृत्य है। फासिस्टों की सरकार द्वारा डॉ. खान को केवल इसलिए निशाना

क्या हम इस्लामोफोबिया के बढ़ते संक्रमण को रोक सकते हैं?

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

Can we stop the growing infection of Islamophobia? 9/11 2000 के डब्ल्यूटीसी हमले के बाद ‘इस्लामोफोबिया’ (इस्लाम के प्रति डर या घृणा का भाव) शब्द का प्रचलन अचानक बहुत बढ़ गया. इस घटना के बाद अमरीकी मीडिया ने ‘इस्लामिक आतंकवाद’ शब्द का भी बड़े पैमाने पर उपयोग करना शुरू कर दिया. दुनिया के इतिहास में