कृषि विरोधी कानूनों के खिलाफ छत्तीसगढ़ में हुए कई स्थानों पर हुए प्रदर्शन, मोदी सरकार का हुआ पुतला दहन

Demonstrations held in many places in Chhattisgarh against anti-agricultural laws

जिस अलोकतांत्रिक तरीके से संसदीय जनतंत्र को कुचलते हुए इन कानूनों को पारित किया गया है, उससे स्पष्ट है कि यह सरकार आम जनता की नहीं, अपने कॉर्पोरेट मालिकों की चाकरी कर रही है।

कृषि विधेयक : नोटबन्दी, जीएसटी, तालाबंदी के बाद अब यह चौथा मास्टरस्ट्रोक, जो अर्थव्यवस्था की रही सही कमर तोड़ेगा

More than 50 bighas of wheat crop burnt to ashes of 36 farmers of village Parsa Hussain of Dumariyaganj area

2 farm bills clear Rajya Sabha hurdle amid protests रविवार को राज्यसभा में विपक्ष के हंगामे (Opposition uproar in Rajya Sabha) के बीच कृषि विधेयक ध्वनिमत से पारित हुए। इसके साथ ही मोदी सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र में तथाकथित नए सुधार के कार्यक्रमों को अमलीजामा पहनाने के लिए लाए गए कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य

वैक्सीन की तरह संदेह भरी मजदूरों की जिंदगी

Lockdown, migration and environment

Life of laborers with suspicion like vaccine कोरोना से निजात पाने के लिए सबको एक अदद वैक्सीन की दरकार है। दुनिया को लग रहा है कि इससे वो सुरक्षित हो जाएगी। हांलाकि इसे पहले वैज्ञानिक स्तर पर जांचा परखा जाता है। फिर उसे जनता को उपलब्ध कराया जाता है। जिसमें कम समय के साथ लंबा

आपदा को मुनाफ़े में बदल कर कमा रही है ग़रीब विरोधी सरकार : राहुल

Rahul Gandhi at Bharat Bachao Rally

नई दिल्ली, 25 जुलाई 2020. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लॉकडाउन में श्रमिक ट्रेनों द्वारा 428 करोड़ रुपये कमाई करने वाली एक रिपोर्ट (A report of Rs 428 crore earned by labor trains in lockdown) का हवाला देते हुए केंद्र की मोदी सरकार और रेल मंत्रालय पर निशाना साधा है. बता दें 24

महिलाओं के लिए कोई नया नहीं है लॉकडाउन

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

महिला और लॉकडाउन | Women and Lockdown महिलाओं के लिए लॉकडाउन कोई नया लॉकडाउन नहीं है इससे पहले भी बचपन से न जाने कितने लॉकडाउनों को देखा और महसूस किया…! जैसे ही किसी बच्ची का जन्म होता है उसके साथ ही लॉकडाउन का जन्म होता है कुछ लोगों के द्वारा ऐसी सामाजिक बंदिशे बनाई गई….

बनारस बदल गया है, लोग भी बदल गए हैं

Keshav Suman

Benares has changed, people have also changed आज बनारस के वरिष्ठ कवि केशव शरण जी का फोन आया। प्रेरणा अंशु के जून अंक में लॉकडाउन पर उनकी कविताएं (Keshav Sharan’s poems on lockdown) छपी हैं। लेखकीय प्रतियां मिलते ही फोन किया। फिर लम्बी बात हुई। उनसे पता चला कि केडी यादव अब बनारस में नहीं

कोरोना काल में परदे के पीछे के कलाकारों का बुरा हाल

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

आधुनिक परिवेश में सांस्कृतिक मूल्यों को सहेजने का यदि कोई कार्य कर रहा है तो वह कलाकार ही हैं। मनुष्य को मनुष्यता का पाठ पढ़ाने वाली शिक्षा, जिसमें त्याग, बलिदान और अनुशासन के आदर्श निहित हैं, यदि कहीं संरक्षित है तो वह मात्र लोक कलाओं (Folk arts) में ही है। लेकिन कोरोना महामारी के कारण

जानिए मन की बात में आज क्या कहा प्रधानमंत्री मोदी ने

Modi in Gamchha

मन की बात 2.0’ की 12वीं कड़ी में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के सम्बोधन का मूल पाठ Text of Prime Minister Shri Narendra Modi’s address in 12th episode of Mann Ki Baat 2.0 मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार। कोरोना के प्रभाव से हमारी ‘मन की बात’ भी अछूती नहीं रही है। जब मैंने पिछली बार आपसे

कोरोना से निपटने का सरकार का कोई इरादा नहीं, यह योजनाबद्ध नरसंहार है

Lockdown in RaipurLockdown in Raipur

The government has no intention of dealing with Corona, it is a planned massacre कोरोना से निपटने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। यह योजनाबद्ध नरसंहार (Planned massacre…) है। हम पहले ही लिख चुके हैं। अब पांचवें चरण के लिए लॉकडाउन (Lockdown for fifth stage) 30 जून तक बढ़ा दिया गया। लॉकडाउन की हालत

‘स्पीक अप इंडिया’ : कांग्रेस के बड़े नेताओं ने ही बैठा दिया कांग्रेस का भट्टा

congress

कोविड-19 के आगमन पर प्रधान सेवक के कहे ‘ कि आपदा में भी अवसर हो सकते हैं’, को कांग्रेस द्वारा मूलरूप से क्रियान्वित करने के प्रयास कल 28 मई को ‘स्पीक अप इंडिया‘ अभियान (Congress’ ‘Speak Up India‘ campaign,) के तहत किया गया। इसमें अचरज नहीं करना चाहिये कि जो प्रश्न 2019 के लोकसभा चुनाव