अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता (Theoreticity of Psychoanalysis or Structure of ideology of psychoanalysis and Depression) पर एक चर्चा (30 जून को लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र संगठन आइसा के फेसबुक लाइव पर पढ़ा गया आलेख) —अरुण माहेश्वरी पिछले दिनों बॉलीवुड के अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्म-हत्या पर जब तमाम माध्यमों पर काफी चर्चा चल