बैंकों ने लोगों की सेवा करने के बजाए उनका शोषण करना शुरू कर दिया है

Bank

NO BANK CHARGES : बैंक लोक कल्याण से भटक कर व्यावसायिक कल्याण के मार्ग पर चले गए हैं, उन्होंने लोगों की सेवा करने के बजाए उनका शोषण करना शुरू कर दिया है, वे कॉर्पोरेट को दिये ऋणों से हुए नुकसान की वसूली आम लोगों से बैंक चार्जेस के माध्यम से करने लगे हैं।    कार्टून

NO BANK CHARGES : एनपीए का दंड गरीबों पर

Cartoons on the issue of bank charges in India

NO BANK CHARGES :  बैंक शुल्कों के कारण आर्थिक रूप से कमजोर जमाकर्ताओं की बचत समाप्त हो जाती है। अगर उनको बैंकिंग की सुविधा (Banking facilities) के लिए इतनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है, तो फिर बैंकों का उद्देश्य क्या हैं (What is the purpose of banks) ? Cartoons on the issue of bank charges in