Home » Tag Archives: Republic Day

Tag Archives: Republic Day

ट्रैक्टर परेड : किसान आंदोलन असल मुद्दे से ध्यान न भटक जाए, डॉगी मीडिया के साथ एनडीटीवी का सबसे खराब रोल रहा

Farmers At Red Fort

On the occasion of 72nd Republic Day, the original Republic Day was celebrated for the first time in the country’s capital. 72वें गणतंत्र दिवस के मौके पर देश की राजधानी में पहली दफ़ा वास्तविक गणतंत्र दिवस मनाया गया। सरकार ने कूटनीतिक रूप से किसान आंदोलन को बदनाम करने की साज़िश (Conspiracy to discredit the peasant movement) रची और मीडिया के …

Read More »

लाल किले पर जाने वाले अगर खालिस्तानी थे तो जवाबदेही गृह मंत्री और प्रधानमंत्री की बनती है

Farmers At Red Fort

If the Khalistani were to visit the Red Fort, then the responsibility of the Home Minister and the Prime Minister is made लालकिला : प्रसंग किसान और सरकार दोनों की जिद्द देश के लिए दुर्भाग्यशाली किसानों और सरकार दोनों की जिद देश के लिए दुर्भाग्यशाली बन रही है, सरकार को इसका हल निकालना होगा। किसानों और सरकार के मध्य समझौता …

Read More »

गणतंत्र दिवस, संप्रभुता और युवा

डॉ. प्रेम सिंह, Dr. Prem Singh Dept. of Hindi University of Delhi Delhi - 110007 (INDIA) Former Fellow Indian Institute of Advanced Study, Shimla India Former Visiting Professor Center of Oriental Studies Vilnius University Lithuania Former Visiting Professor Center of Eastern Languages and Cultures Dept. of Indology Sofia University Sofia Bulgaria

Republic Day, Sovereignty and Youth (यह टिप्पणी 68वें गणतंत्र दिवस – 26 जनवरी 2017 – की है।) 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू होता है और हम दुनिया के मंच पर एक संप्रभु गणतंत्र के रूप में प्रवेश करते हैं। तब से हर 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, जो हमारी संप्रभुता का उत्सव है। गणतंत्र …

Read More »

गणतंत्र को सत्ता वर्ग ने सबसे बड़ा मजाक बना दिया है। आम लोगों के लिए न कानून का राज है, न संविधान कहीं लागू है

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

The RULING CLASS has made the Republic the biggest joke. Neither the rule of law nor the constitution is applicable to common people. आज गणतंत्र दिवस है। अपने बचपन में 15 अगस्त और 26 जनवरी साठ के दशक में जिस जोश से मनाया करते थे हम, जिस तरह कागज पर रंग से तिरंगा बनाकर डंडे पर टांगकर जुलूस में शामिल …

Read More »

अहंकार नहीं आत्मालोचना दिवस है 26 जनवरी

Happy Republic Day

Republic Day is a day of introspection गणतंत्र दिवस आत्मालोचना का दिन है। आसपास देखें, देश में देखें क्या छूट गया है हमारी आँखों से, कौन सी चीज है जो हमारे हाथ से निकल गयी है ! Think what have we lost? सबसे बड़ी त्रासदी यह हुई है कि सम-सामयिक सामाजिक वास्तविकता हमारे हाथ से निकल गयी है, हमने उसे …

Read More »

क्यों मनाएं गणतंत्र दिवस, जब हमारे संविधान का चीर हरण किया गया है?

Justice Markandey Katju

Why celebrate Republic Day when Cheer Haran has been done to our Constitution? नई दिल्ली, 26 जनवरी 2020. पूरा देश इस समय हर्षोल्लास के साथ गणतंत्र दिवस मना रहा है, लेकिन इस बीच अपने बेबाक बयानों के लिए पहचाने जाने वाले सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू  (Justice Markandey Katju, retired judge of the Supreme Court) ने सवाल …

Read More »