हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो

हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो – सबके सतत विकास के लिए यह है ज़रूरी – मेधा पाटकर Exploit the least

Read More