ज़्यादा बोलोगे, कुछ लिख दूँगा, राष्ट्रद्रोही लिख दूंगा, देशद्रोही लिख दूँगा

Rihai Manch appeals to Kerala's Chief Minister to send 86 laborers from Nizamabad, Azamgarh trapped in remote Mallapuram

मज़दूरों की त्रासदी को समर्पित एक रचना। A work dedicated to the tragedy of the workers. तुम दरिद्र हो, भूखे हो, क्यूं रोते हो ? भाग्य की विडंबना है, तर्क आगे माना है । कारण शोध, राष्ट्रद्रोह है, घोर विद्रोह है, तुम्हारी ये हिम्मत कैसे?, तुम्हारी ये ज़ुर्रत कैसे? ज़्यादा बोलोगे, कुछ लिख दूँगा, राष्ट्रद्रोही