वर्क फ्रॉम होम के दौर में लैंगिक उत्पीड़न का बदलता स्वरूप

Female inequality, समाज में व्याप्त असमानताएं, Inequalities prevalent in society, महिला असमानता, Female inequality, Gender inequality, Gender Inequality Facts, gender inequality statistics, Female inequality in the world, Female violence rate, यौनिक शिक्षा, Comprehensive sexual education, Discussion on gender-generated violence and exploitation,

Changing nature of sexual harassment during the era of work from home Sexual harassment of women during Work From Home: What should you do कोरोना वायरस के कारण देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन (Complete lockdown in the country due to corona virus) किया गया था जिसने सबको घर के अंदर रहने को बाध्य कर दिया था

लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं ! तम से क्या घबराना, सूरज रोज निकलता है

लॉकडाउन में कवि, लॉकडाउन, लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं, वर्क फ्रॉम होम, Poet in lockdown, lockdown, There is lockdown, not moral down, work from home,

Lockdown, not Moral Down! नई दिल्ली, 27 अप्रैल 2020.  मंच के लोकप्रिय कवियों ने ‘वर्क फ्रॉम होम’ करते हुए एक (सीक्वल) सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण एक वीडियो तैयार किया है। शिशुपाल सिंह ‘निर्धन’ जी के इस गीत को डॉ. विष्णु सक्सेना और सुश्री मुमताज़ नसीम ने स्वरबद्ध किया है। श्री अरुण जैमिनी का समन्वय; चिराग़

वर्क फ्रॉम होम की जगह वर्क आउट फ्रॉम होम करें और स्वस्थ रहें : फ़िज़ियोथेरेपिस्ट डॉ. मुबारक 

गाजियाबाद के फिजियोथेरेपी एवं रिहैबिलिटेशन डिपार्टमेंट के फिजियोथैरेपिस्ट (Physiotherapist in Delhi/NCR,) डॉ मुबारक,

Work out from home instead of work from home and stay healthy: Physiotherapist Dr. Mubarak नई दिल्ली, 07 अप्रैल 2020. विश्व स्वास्थ्य दिवस (World health day) के अवसर पर लॉक डाउन एवं वर्क फ्रॉम होम के दौरान यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशांबी, गाजियाबाद के फिजियोथेरेपी एवं रिहैबिलिटेशन डिपार्टमेंट के फिजियोथैरेपिस्ट (Physiotherapist in Delhi/NCR,) डॉ मुबारक,