Home » Latest » कोविड-19 : ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने माना, अमेरिका ने कर्तव्य की उपेक्षा की, जो महामारी के प्रसार का मूल कारण है
Donald Trump

कोविड-19 : ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने माना, अमेरिका ने कर्तव्य की उपेक्षा की, जो महामारी के प्रसार का मूल कारण है

The Australian Prime Minister admitted that the US had neglected duty, which is the root cause of the spread of the epidemic.

Many Covid-19 patients arrive in Australia from the United States नई दिल्ली, 24 मार्च 2020. रेडियो इंटरनेशनल चाइना की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि बीती 20 मार्च को, ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने सिडनी के 2 जीबी रेडियो स्टेशन के साथ एक साक्षात्कार (Australian Prime Minister Scott Morrison an interview with Sydney’s 2GB radio station) में स्वीकार किया कि ऑस्ट्रेलिया में कोविड-19 के कई मरीज अमेरिका से आए हैं।

ऑस्ट्रेलिया ने 20 तारीख की रात से अमेरिकी सहित सभी विदेशियों के प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने अमेरिका पर यात्रा प्रतिबंध कभी नहीं लगाया है। आखिर कौन है, जो महामारी के वैश्विक प्रतिरोध को नष्ट कर रहा है। अब इसका नया तर्क है।

अब अमेरिका में कोविड-19 के पुष्ट मामलों की संख्या दुनिया में तीसरे स्थान पर है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने न्यूयॉर्क, वाशिंगटन और कैलिफोर्निया को “प्रमुख आपदा क्षेत्र” घोषित किया गया है। लेकिन, अमेरिकी सरकार अभी भी असंबद्ध दिखाई देती है।

20 मार्च को व्हाइट हाउस द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में, अमेरिकी सर्वोच्च नेता ने कहा कि उन्होंने पूरे देश में “कर्फ्यू” लगाने पर विचार नहीं किया है। क्योंकि “अमेरिका के कई हिस्सों में महामारी की स्थिति गंभीर नहीं है।”

रेडियो इंटरनेशनल चाइना की रिपोर्ट में बताया गया है कि उसी दिन, व्हाइट हाउस ने महामारी के पीछे एक “महत्वपूर्ण घटना” साजिश रची। यू.एस. डेली बीस्ट नेटवर्क के अनुसार, अमेरिकी राज्य परिषद ने अमेरिकी अधिकारियों को एक संदेश भेजकर उन्हें चीन पर कोरोना वायरस की सभी जिम्मेदारी डालने के लिये कहा।

व्हाइट हाउस ने कई संघीय एजेंसियों को एकजुट करने की योजना बनाई है, जिसमें चीन पर “महामारी की जानकारी छिपाने” और “एक वैश्विक प्लेग बनाने” का आरोप लगाया गया है।

“सब कुछ चीन के साथ करना है, और इस संदेश को प्रेस कॉन्फ्रेंस और टेलीविजन भाषण सहित सभी तरीकों से बताना चाहिए।”

रेडियो इंटरनेशनल चाइना की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस दृष्टिकोण से, हाल ही में कई अमेरिकी राजनीतिज्ञों ने अक्सर “चीनी वायरस” पर जोर दिया, यह किसी भी तरह से अनजाने में नहीं है। “चीन पर आरोप लगाना” अमेरिका में महामारी से लड़ने का दिशानिर्देश बन गया है।

अमेरिकी खुफिया एजेंसियां भी जनवरी से प्रकोप की चेतावनी दे रही हैं कि कोरोना वायरस के दुनिया भर फैलने की संभावना है और इसे रोकने के लिए त्वरित सरकारी कार्रवाई की आवश्यकता है। सांसद और व्हाइट हाउस के अधिकारी सब यह चेतावनी देख सकते हैं। लेकिन पूरे फरवरी में अमेरिका ने महामारी की रोकथाम पर कोई प्रभावी उपाय नहीं अपनाया।

याद रहे कि फरवरी के अंतिम दिनों में ही डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा हुई और उनके स्वागत में भारत सरकार और पीएम मोदी ने कई बड़े कार्यक्रम (Namaste Trump) आयोजित किए 

Namaste Trump

रेडियो इंटरनेशनल चाइना की रिपोर्ट में बताया गया है कि एक तरफ लोगों को खुश करते हुए कहा कि संक्रमण “बहुत कम जोखिम” है, जबकि दूसरी तरफ दावा किया है कि सरकार इसके तहत बहुत “अच्छा काम कर रही है”। लेकिन बाद में यह साबित हुआ है कि अमेरिकी राजनीतिज्ञ झूठ बोलते रहे हैं।

गंभीर महामारी के साथ, सार्वजनिक असंतोष बढ़ गया। अमेरिका ने अंततः 13 मार्च को आपातकाल की घोषणा की और महामारी की रोकथाम के उपायों की एक श्रृंखला का भी वादा किया। अमेरिकी मीडिया और लोगों ने राजनीतिज्ञों की निष्क्रियता की शिकायत की।

अब अमेरिका में महामारी के स्थिति नियंत्रण से बाहर बढ़ रही है। फिर अमेरिका ने सारी जिम्मेदारी चीन पर डाल दी।

रेडियो इंटरनेशनल चाइना की रिपोर्ट में बताया गया है कि अमेरिका के शीर्ष नेता ने यह भी कहा कि जब तक कि चीनी और यूरोपीय लोगों के अमेरिका पर आने पर प्रतिबंध है, तभी वायरस को हराया जा सकता है।

अमेरिकी राजनीतिज्ञों ने महामारी की जानकारी छिपाकर चुपचाप से शेयर बेच दिए। वे अपने व्यवसाय और अपने वोटों के बारे में चिंतित हैं, लेकिन कार्रवाई करने में उदासीन हैं।

महामारी की रोकथाम व नियंत्रण लड़ाई कमजोर हो गयी है। अमेरिका ने महामारी की रोकथाम और नियंत्रण के स्वर्णिम समय को खो दिया है।

आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री का साक्षात्कार आप इस लिंक पर सुन सकते हैं। Scott Morrison says now is the right time to close our borders

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …