कांग्रेस ने सरकार को फटकारा, मजदूरों के साथ तमीज़ से पेश आएं, वे भारत का निर्माण करते हैं

The BJP government is treating stepmotherly the workers building India.

नई दिल्ली, 31 मार्च 2020. उत्तर प्रदेश के बरेली में प्रवासी मजदूरों के ऊपर केमिकल छिड़काव वाली घटना (Chemical spraying incident on migrant laborers in Bareilly, Uttar Pradesh) के एक दिन बाद, मंगलवार को कांग्रेस ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि वह भारत का निर्माण करते हुए मजदूरों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है।

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने एक ट्वीट में लिखा,

“कीटाणुनाशक स्प्रे, अब समय आ गया है हमारी राजनीति को सैनेटाइज करने का ना कि प्रवासी श्रमिक जो बरेली पहुंचे थे। वे कारखानों, फसलों की कटाई, रेस्तरां, होटलों में, निर्माण परियोजनाओं, राजमार्गों और घरों में काम करते हैं। वे भारत का निर्माण करते हैं, उनके साथ सम्मान के साथ पेश आना चाहिए।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बरेली जिले में आने के बाद सोमवार को स्थानीय प्रशासन और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने बरेली में प्रवासी मजदूरों पर कीटाणुनाशक दवाओं का छिड़काव किया।

हालांकि, आलोचना का सामना करने के बाद जिला मजिस्ट्रेट नीतीश कुमार ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया कि वे उन लोगों को इलाज मुहैया कराएं, जिन्हें रविवार को सोडियम हाइपोक्लोराइट के साथ छिड़काव किया गया था।

जिला मजिस्ट्रेट ने एक ट्वीट में स्वीकार किया कि नगर निगम और दमकल कर्मियों ने अपने स्वच्छता अभियान में अति उत्साही हो गए और लोगों पर रासायनिक छिड़काव किया।

उन्होंने कहा कि दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations