आने वाली पीढ़ियां दलित – पिछड़ों के विश्वासघात पर शर्मसार होंगी !

The coming generations will be ashamed of the betrayal of the Dalits and the backward!

यूपी में 1989 के बाद जब भी पिछड़ों या दलितों के नेतृत्व में सरकार बनी है वह बिना अल्पसंख्यकों के समर्थन के नहीं बन सकती थी।

Minorities are being targeted due to political envy

आज जब अल्पसंख्यकों को राजनीतिक विद्वेष की वजह से टारगेट किया जा रहा है तब न ही नेतृत्व के स्तर पर और न ही सामाजिक स्तर पर दलित व पिछड़ा वर्ग उनके साथ खड़ा हो रहा है। यह बहुत ही दुःखद है।

उससे भी जायदा परेशानी की बात यह है कि ये वर्ग सांप्रदायिकता फैलाने के औजार बन रहे हैं और इनका नेतृत्व “सॉफ्ट हिंदुत्व” (Soft Hindutva) को अपनाने की कोशिश में और कुछ “लालू यादव” बना दिये जाने के डर से चुप्पी साधे हैं।

सत्ता सदैव किसी की नहीं रहती लेकिन यह व्यवहार विश्वासघात के दर्जे का है और इतिहास जब मूल्यांकन करेगा तो आने वाली पीढ़ियां दलित, पिछड़े लोगों के और उनके नेतृत्व की मौकापरस्ती पर शर्मसार होंगी यह तय है।

पीयूष रंजन यादव

(लेखक सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ता हैं)

यह भी पढ़ें –

अखिलेश की बेवफाई से आजम हुए दुखी, शाहनवाज़ आलम ने कहा ये मुसलमानों के साथ धोखा, अखिलेश ने अपनी भावी राजनीति का संकेत दे दिया है

हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें Donate to Hastakshep

Note – We are not affiliated to any political party or group, but We are not impartial OR neutral. We are public advocates. We do not accept any kind of pressure on our ideology. Therefore, if you help us financially, we will not accept any kind of pressure in return for that.

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations