योगी आदित्यनाथ से प्रेरित हैं मॉब लिंचिंग करने वाले अपराधी – शाहनवाज़ आलम

The culprit who committed mob lynching is inspired by Yogi Adityanath – Shahnawaz Alam

बुलंदशहर मॉब लिंचिंग (Bulandshahr mob lynching) पीड़ितों से मिला अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल

अगर आरोपी नहीं पकड़े गए तो करेंगे आंदोलन – शाहनवाज़ आलम

बुलंदशहर, 7 मार्च 2020। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम (Shahnawaz Alam) ने आज बुलंदशहर के सिकंदराबाद में पिछले दिनों भीड़ हिंसा के शिकार मुस्लिम नौजवानों से मुलाक़ात की।

ग़ौरतलब है कि 2 मार्च को खुर्जा रोड के हमीदपुर गांव के पास दो मुस्लिम नौजवानों मोहम्मद राहिल क़ुरैशी और उमर ग़ाज़ी को साम्प्रदायिक तत्वों ने गौकशी के झूठे आरोप में बुरी तरह पीटा था जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। बाद में पुलिस ने पूरे मामले को झूठा पाया था।

शाहनवाज़ आलम ने सदर अस्पताल बुलंदशहर में भर्ती राहिल क़ुरैशी से मुलाक़ात कर घटना और उनके इलाज के बारे में जानकारी ली और उसके बाद उनके मोहल्ले रिसालदारान जाकर उनके परिजनों से मुलाक़ात की। वहीं दूसरे घायल उमर ग़ाज़ी के घर खत्रीवाड़ा में जाकर मुलाक़ात की।

इसके बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं को कांग्रेस पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। अगर न्याय नहीं मिला तो आंदोलन किया जाएगा।

उन्होंने ऐसी हिंसा में शामिल अपराधियों पर सरकारी संरक्षण का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसी हिंसा में शामिल लोग सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के व्यक्तित्व से प्रेरित हैं। उन्हें लगता है कि जिस तरह योगी यही सब करके मुख्यमंत्री बने हैं उसी तरह वो भी कुछ बन सकते हैं।

शाम को तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने एसएसपी से मुलाक़ात कर फ़रार आरोपियों को तत्काल गिरफ़्तार करने की मांग की।

प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश कांग्रेस महासचिव बदरुद्दीन क़ुरैशी, ज़िला अध्यक्ष टुककीमल खटिक, अख़्तर मलिक, सुनील यादव, महेश यादव, निज़ाम मालिक, इर्शाद शमशेर, चौधरी शिवोपाल सिंह, विनय शर्मा, किशन कुमार, नाफ़े अंसारी, इदरीस क़ुरैशी, राकेश भाटी, सुशील चौधरी, ख़ालिद मोहम्मद, वसी अहमद, मोहम्मद ताहिर, दुष्यंत गुप्ता, आस मोहम्मद क़ुरैशी आदि शामिल रहे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations