यूपी में डरे सपा-बसपा को कांग्रेस ने दिखाया रास्ता, शाहनवाज की गिरफ्तारी के विरोध में पूरी कांग्रेस सड़क पर, लल्लू समेत कई गिरफ्तार

Lallu Arrested

लखनऊ, 30 जून 2020. ऐसे दोर में जब प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी अपने महासचिव आजम खां के साथ खड़ी न हो सकी हो, बसपा सुप्रीमो खुले आम भाजपा के साथ खड़े होने का ऐलान कर रही हों, प्रदेश में चौथे नंबर की पार्टी कांग्रेस न केवल दम दिखाया है, बल्कि अपने कार्यकर्ता के साथ खुलकर खड़ी हो गई है। कांग्रेस अल्पसंख्यक सेल के चेयरमैन शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी के विरोध में पूरी रात चले धरना प्रदर्शन और पुलिस लाठीचार्ज के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, सहित कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं के गिरफ्तार होने की खबर आ रही है। वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी मोर्चा संभाल लिया है।

उत्तर प्रदेश पुलिस के मुताबिक, पिछले साल दिसंबर में हुई सीएए विरोधी हिंसा में कथित संलिप्तता के आरोप में आलम को लखनऊ पुलिस ने सोमवार देर रात गिरफ्तार किया।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पार्टी के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी पर मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि पुलिस की कार्रवाई अलोकतांत्रिक और दमनकारी है।

प्रियंका ने ट्वीट किया,

“कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जनता के मुद्दों पर आवाज उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी को नहीं। देखिए किस तरह यूपी पुलिस ने हमारे अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष को रात के अंधेरे में उठाया।”

उन्होंने आगे कहा,

“पहले फर्जी आरोपों को लेकर हमारे प्रदेश अध्यक्ष को चार ह़फ्तों के लिए जेल में रखा। ये पुलिसिया कार्रवाई दमनकारी और आलोकतांत्रिक है। कांग्रेस के सिपाही पुलिस की लाठियों और फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले।”

बताया जाता है कि कल रात शाहनवाज आलम को प्रदेश कांग्रेस दफ्तर से पुलिस ने चोरी-छिपे उठा लिया था उसके बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा समेत सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता हजरतगंज कोतवाली पहुंच गए थे जहां काफी देर तक बहस के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं के ऊपर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया जिसमें कई कार्यकर्ता घायल हो गए अजय कुमार लल्लू ने इस लाठीचार्ज की वीडियो क्लिप अपनी टि्वटर टाइमलाइन पर पोस्ट की थी।

सुबह अजय कुमार ल्लू ने ट्वीट किया कि

“अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शाहनवाज आलम जी का न मुकदमें में नाम है,न चार्जशीट में नाम है।

आधार क्या है?

आधार दमन है? क्या हम नौजवानों, किसानों, गरीबों की आवाज़ उठा रहे है गलत कर रहे है?

आपके हाथ में ताक़त है तो हमें दबा देंगे,जेल भेज देंगे?

चलाईये लाठी हम तैयार है !”

उन्होंने ट्वीट किया –

भाजपा सरकार जबरन हमारे अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष को गिरफ्तार की है। इस सरकार को हमारे आवाज़ उठाने से डर है।

हम किसानों की आवाज़ उठाते हैं,

सरकार को दर्द होता है

नौजवानों की आवाज़ उठाते है,

सरकार को दर्द होता है

सरकार लाख दमन करे कांग्रेस का कार्यकर्ता नहीं डरेगा।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें