Home » Latest » वामपंथी ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं
Communist Party of India CPI

वामपंथी ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं

The Left will not clap, lota and thali, because rioters have been using it to provoke riots.

लखनऊ, 22 मार्च 2020. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि वामपंथी दलों के कार्यकर्ता ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं।

भाकपा के राज्य सचिव डॉ. गिरीश चन्द्र शर्मा ने कहा कि

“हम वामपंथियों ने सारे प्रोग्राम रद्द करने और एकाकी रहने के निर्देश पहले ही सारे कार्यकर्ताओं को जारी कर दिये थे। हम सब ऐसा कर भी रहे हैं।

22 मार्च यानी आज भी हम घरों में रह कर ही अटेंशन की स्थिति में खड़े होकर उन सभी को सेल्यूट करेंगे जो कोरोना की रोकथाम में लगे हैं।

शहीद भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु के शहादत की पूर्व संध्या है आज। अतएव उनको भी सेल्यूट पेश करेंगे।

हम ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे। क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस अपवित्र विधा का इस्तेमाल करते रहे हैं।

इसके अलाबा हम हर तरह के बेरोजगार बने व्यक्तियों और तमाम गरीबों को जरूरी सामान मुफ्त दिलाने को आवाज उठाते रहेंगे। जय हिंद। लाल सलाम। जय भीम।”.

यह भी पढ़ें –

कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू आइडिया से हैरान हैं वैज्ञानिक और डॉक्टर, शर्मिंदा हैं अपनी पढ़ाई पर !

कोरोना वायरस : सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल के लिए क्या प्रधानमंत्री वाकई गंभीर हैं? इतने गंभीर संकट पर भी जुमलेबाजी !

 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …