Home » Latest » लूटखसोट मची है और डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों की बलि चढ़ाई जा रही है
पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

लूटखसोट मची है और डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों की बलि चढ़ाई जा रही है

The medical system in Uttarakhand is at a standstill.

उत्तराखंड में चिकित्सा व्यवस्था ठप है। डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी कोरोना संक्रमित होकर मर भी रहे हैं। पीपीई किट नहीं है। दवाएं नहीं हैं। कोरोना के आंकड़े बढ़ाकर लूटखसोट मची है और डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों की बलि चढ़ाई जा रही है। भत्ते बन्द हैं। इंक्रीमेंट पर रोक है। वेतन में कटौती की जा रही है। संक्रमितों के परिजनों की जांच नहीं हो रही है। मारे गए कोरोना योद्धाओं के परिजनों के साथ सत्ता का कोई प्रतिनिधि खड़ा नहीं है।

अस्वस्थ, असंतुष्ट डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी आम जनता की सेहत का कैसे ख्याल रख सकते हैं? स्वास्थ्य केंद्रों पर न डॉक्टर हैं न नर्स। दवाएं तक नहीं। दवा भेजी तो exppired…

सरकार कोई सुनवाई नहीं कर रही है।

नाराज डॉक्टर, स्वास्थ कर्मी काली पट्टी पहनकर ड्यूटी कर रहे थे। हड़ताल और सामूहिक इस्तीफा की धमकी दी तो मुख्यमंत्री की नींद खुली।

भारतीय समाज का ताना बाना मजहबी सियासत प्रायोजित घृणा और हिंसा ने छिन्न-भिन्न कर दिया है।

आचरण का व्याकरण खत्म हो गया है।

जिनकी मातृभाषा देवभाषा है, उनमें घृणा,हिंसा और अस्पृश्यता के सिवाय कोई शब्द नहीं है।

यही उनका मिथकीय सौंदर्य शास्त्र है, जिस पर तामीर है असमानता और अन्याय का अजेय किला।

इसी किले से वे शिक्षा और जीवन व मनुष्यत के सारे अधिकारों से हजारों सालों से आम जनता को वंचित करते रहे हैं।

जीवन के हर क्षेत्र में उन्हीं का एकाधिकार मोनोपोली है।

यह मोनोपोली किसी भी क्षेत्र में टूट जाए तो कोरोना फ़ैल जाता है।

फिर कोरोना की आड़ में राष्ट्र हित में धर्मयुद्ध शुरू हो जाता है, जिसमें हर शम्बूक की हत्या का प्रावधान है।

हर स्त्री की अग्नि परीक्षा है और यही उनकी मर्यादा है।

इस परम्परा को तोड़ना सबसे जरूरी है।
भाषा, साहित्य, इतिहास,भूगोल और ज्ञान विज्ञान में आम जनता की भागीदारी बढ़ाना जरूरी है।

आज का सबसे बड़ा मिशन यही है और बाकी सब कमीशन है।

पलाश विश्वास

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हंसी सबसे अच्छी दवा है : मुनव्वर फारूकी

स्टेंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Standup Comedian Munawwar Farooqui) बेंगलुरू में एक परोपकारी संस्था के लिए …

Leave a Reply