Home » Latest » बिके हुए पत्रकार से तवायफ़ की इज़्ज़त ज्यादा होती है, प्रेस काउंसिल के पूर्व चेयरमैन ने फिर याद दिलाया
Justice Markandey Katju

बिके हुए पत्रकार से तवायफ़ की इज़्ज़त ज्यादा होती है, प्रेस काउंसिल के पूर्व चेयरमैन ने फिर याद दिलाया

The prostitute has more respect than a sold-out journalist, the former chairman of the Press Council again reminded

नई दिल्ली, 26 दिसंबर 2020. पूरे देश के किसान नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत हैं और 130 करोड़ भारतवासी इन किसानों के साथ खड़े हैं, लेकिन जनविरोधी गोदी मीडिया के नाम से मशहूर हो गया तथाकथित मुख्यधारा का मीडिया इन किसानों और 130 करोड़ भारतीयों के खिलाफ ज़हर उगल रहा है।

इस बिकाऊ मीडिया को प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन और सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने सआदत हसन मंटो की पत्रकारों पर उक्ति (Saadat Hasan Manto’s statement on journalists) के साथ आगाह किया है।

जस्टिस काटजू ने मंटो के एक चित्र को ट्वीट किया, जिस पर मंटो का कथन –“ कोठे का तवायफ़ और एक बिका हुआ पत्रकार एक ही श्रेणी में आते हैं। लेकिन इनमें तवायफ़ की इज़्ज़त ज्यादा होती है…।

-सआदत हसन मंटो” लिखा हुआ है।

इसके साथ जस्टिस काटजू ने अपनी टिप्पणी जोड़ी – “To the entire shameless sold out sycophantic godi media”

जस्टिस काटजू के ट्वीट के उत्तर में एक ट्विटर उपभोक्ता अंकुर त्रिपाठी @AnkurTripathe ने भी मंटो का दूसरा कथन चस्पा कर दिया –

“लीडर जब आँसू बहा कर लोगों से कहते हैं कि मज़हब ख़तरे में है तो इस में कोई हक़ीक़त नहीं होती। मज़हब ऐसी चीज़ ही नहीं कि ख़तरे में पड़ सके, अगर किसी बात का ख़तरा है तो वो लीडरों का है जो अपना उल्लू सीधा करने के लिए मज़हब को ख़तरे में डालते हैं।

~मंटो”

https://twitter.com/mkatju/status/1342696163686772736
https://twitter.com/AnkurTripathe/status/1342698218904141824

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

deepa kaul

लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान – दीपा कौल

136 साल से देश को जोड़ने का काम कर रही है कांग्रेस – दीपा कौल …

Leave a Reply