तो खत्म हो जाएंगी चिड़ियां

तो खत्म हो जाएंगी चिड़ियां

तेजी से घट रही है जंगलों में पाई जाने वाली चिड़ियों की संख्या

चिड़िया की चहचहाट में जिंद़गी के सपने दर्ज हैं और चिड़िया की उड़ान में इन सपनों की तस्वीर झिलमिलाती है। चिड़िया जब चहचहाती है तो मौसम में ताज़गी भर जाती है, हवाओं में गुनगुनाहट सी रच जाती है और फिज़ा में मदहोशी-सी छा जाती है। एक मादकता चहुँ ओर घुलने लगती है। चिड़िया का आँगन में आना ज़िंदगी में लय भर देता है। चिड़िया जब दाना चुगती है तो बच्चे कितनी ही देर तक अपलक उसे निहारते रहते हैं और बुजुर्ग मां चिड़ियों को दाना डाल कर सुकून हासिल करती है। इसी तरह चिड़िया का मनुष्य के साथ भावनात्मक रिश्ता है। लेकिन अफ़सोस! चिड़ियों का संसार अब सिमटता जा रहा है और इसके पीछे जाने-अनजाने मनुष्य का भी हाथ है। कहीं ऐसा न हो कि एक दिन आँगन चिड़ियों से सूना हो जाए और चिड़िया की चहचहाट के लिए मौसम तरस जाए, हवाएँ तरस जाएँ और हम सब तरस जाएँ।

लगातार घट रही है घरेलू चिड़ियों की संख्या

हाल ही में हुए सर्वेक्षणों से पता चला है कि घरेलू चिड़ियों की संख्या (number of domestic birds) दिनों-दिन घटती जा रही है और इनका अस्तित्व लगातार संकट में है। चिड़ियों को सुरक्षा प्रदान करने वाले पक्षी विशेषज्ञ लंदन के ग्राहम माडेज (Graham Madge, spokesman for the Royal Society for the Protection of Birds) का कहना है कि जब से खेती में नई-नई तकनीकें प्रयोग में आई हैं, खेतों में उठने-बैठने वाली इन घरेलू चिड़ियों पर बुरा असर पड़ा है। लेकिन जिस तेजी से इधर कुछ सालों में घरेलू चिड़ियों की संख्या में कमी आई है, वह चिंताजनक है। एक सर्वे में पाया गया कि ये चिड़ियाँ गाँवों में ज़्यादा पाई जाती थीं। लेकिन आजकल गाँवों में भी घरेलू चिड़ियाँ कम ही नज़र आती हैं। इधर तीस सालों में विभिन्न प्रजातियों की चिड़ियों की संख्या में 65 प्रतिशत की कमी आई है।

माडेज के अनुसार नर चिड़ियों की पहचान ज़्यादा आसान है। इनके सिर पर मटमैले रंग का मुकुट जैसा होता है और इनकी चोंच काले रंग की होती है जबकि मादा चिड़िया पीले रंग की, कुछ छोटी लेकिन मोटी होती हैं। तीस साल पहले नर चिड़ियाँ बड़ी संख्या में नज़र आती थीं लेकिन पिछले कुछ सालों में चिड़ियों की संख्या में 58 प्रतिशत की कमी आई है।

तेजी से घट रही है जंगली चिड़ियों की संख्या

शोधकर्ताओं का कहना है कि जंगलों में पाई जाने वाली चिड़ियों की संख्या (number of birds found in the forest) भी तेजी से घट रही है। पिछले पाँच सालों में जंगली चिड़ियों की कमी चिंताजनक बनी हुई है।

गुनगुनाने वाली चिड़िया/ Hummingbirds (सोंग थ्रैश) के भविष्य पर पक्षियों को बचाने के प्रयास में जुटी ब्रिटेन की शाही सोसायटी (British Royal Society) के प्रमुख डॉ म़ार्क ओवरी ने गहरी चिंता जताई है। ब्रिटिश सरकार के एक अध्ययन से पता चलता है कि 1970 से 1998 के मध्य इस प्रजाति की आबादी में 55 फीसदी की भारी गिरावट आई है।

पक्षी विशेषज्ञों का मानना है कि गाँवों का तेजी से शहरों में बदलना और परंपरागत कृषि के तौर-तरीकों की जगह आधुनिकतम तरीकों के प्रयोग ने चिड़ियों की आज़ादी और स्वच्छंद जीवन पर अकुंश लगा दिया है। शहरीकरण और आधुनिक खेती ने कीड़े-मकोड़े खाने वाली चिड़िया के परिजनों को भूखे मरने की स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया है। इसके अलावा मौसम के परिवर्तनों से भी गाने वाली चिड़ियाँ अछूती नहीं रही हैं।

प्रवासी गाने वाले पक्षियों पर बुरा असर पड़ेगा अल-नीनो का

एक अन्य अध्ययन के मुताबिक ‘अल-नीनो’ के बढ़ने की आशंकाओं के साथ ही उत्तरी अमेरिका के जंगलों में गाने वाली चिड़ियों की संख्या में भारी कमी हो सकती है।

क्या है अल-नीनो‘?

दक्षिण अमेरिका के पश्चिम तट के सहारे प्रशांत महासागर में चलने वाली ठंडी समुद्री जलधारा के गर्म हो जाने और इस समुद्री जलधारा के पश्चिम की ओर बढ़कर पूरे विश्व के तापमान और वर्षा को प्रभावित करने की घटना को अल-नीनो कहते हैं जबकि इसकी ठीक उलट घटना को ‘अल-नीना’ कहा जाता है।

‘डार्ट माउथ कालेज’ और ‘तुलाने यूनिवर्सिटी’ (अमेरिका) के शोधकर्मियों ने काले कंठों वाले पक्षी ‘वार्बलर’ पर प्राकृतिक मौसमी चक्रों के प्रभावों का अध्ययन किया है। इस अध्ययन के मुताबिक आने वाले सालों में, जब ‘अल-नीनो’ चक्र शुरू होगा तब इन प्रवासी गाने वाले पंछियों पर बुरा असर पड़ेगा।

शोधकर्मी टी स़्कॉट सिलेट के मुताबिक ‘अल-नीनो’ के प्रभाव से न्यू हैम्पशायर और जमैका में कीड़े-मकोड़ों की संख्या में काफ़ी कमी आ जाएगी।

न्यू हैम्पशायर पक्षियों का प्रजनन स्थल है जबकि जमैका में उनका शीत प्रवास होता है। इसके परिणामस्वरूप ये चिड़ियाँ ‘अल-नीनो’ के दौरान बहुत कम अंडे दे पाती हैं।

दिलचस्प रूप से ‘ला-नीना’ वर्षों के दौरान इन चिड़ियों को काफ़ी मात्रा में कीड़े-मकोड़े मिल जाते हैं। इस वजह से ये अधिक बच्चे पैदा कर लेती हैं।

सिलेट के मुताबिक विश्व का तापमान बढ़ने के कारण ‘अल-नीनो’ के जल्दी आने की संभावनाएँ बढ़ती जा रही हैं। ‘अल-नीनो’ का जल्दी-जल्दी आना ही इस छोटी जंगली चिड़िया के अस्तित्व के लिए ख़तरा साबित हो सकता है। इससे बार्वलर का प्रजनन दर शून्य तक पहुँच सकता है।

भारत में मानसून पर अल-नीनो का प्रभाव

अल-नीनो की वजह से भारत में भी मानसून पवनों पर प्रभाव पड़ता है। जिस वर्ष अल-नीनो प्रशांत महासागर के ऊपर आता है, उस वर्ष भारत में मानसून की वर्षा कम हो जाती है और इसके कारण भारत में भी साइबेरियाई क्रेन और अन्य प्रवासी पक्षियों का भारत के सुप्रसिद्ध प्राणि अभ्यारण्यों में आना कम हो जाता है।

ख़तरों से खाली नहीं जेनेटिकली मॉडिफाइड क्रॉप्स

विशेषज्ञों ने फसलों के बदले चेहरे को भी पक्षियों के लिए ख़तरा करार दिया है। अनुवांशिक तौर पर रूपातंरित पौधों या जेनेटिकली मॉडिफाइड (जी एम) क्रॉप्सकी खेती (Cultivation of ‘Genetically Modified (GM) Crops’) आजकल पश्चिमी देशों में आम है। इन पौधों की विशेषता यह है कि न तो इन्हें संक्रमण का ज़्यादा ख़तरा होता है और न ही नुकसानदायक रासायनिक खादों की ज़्यादा ज़रूरत होती है। आजकल मिलने वाले रसायनों में डूबे अनाजों के मुकाबले इन से प्राप्त अनाज कहीं बेहतर और पोषक माने जा रहे हैं। लेकिन इन तमाम फ़ायदों के बावजूद जी ए़म प़ौधे ख़तरों से खाली नहीं। यह सिद्ध किया है ईस्ट एंग्लिया विश्वविद्यालय के कुछ वैज्ञानिकों ने।

खरपतवार क्यों जरूरी है?

ईस्ट एंग्लिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित गणितीय मॉडल के अनुसार नये जी ए़म प़ौधे संक्रमणरहित तो होते ही हैं लेकिन अपने आसपास के क्षेत्र की खरपतवार उपज में भी वे तकरीबन नब्बे फीसदी तक कमी ला देते हैं। अब चूँकि खरपतवार संख्या सीधे-सीधे खेतों के आसपास पाए जाने वाली चिड़ियों की संख्या से जुड़ी है, इसलिए यह तय है कि खरपतवार कम होने पर चिड़ियाँ भी कम हो जाएँगी।

कुछ चौंकाने वाले आँकड़ों के मुताबिक ऐसे पौधों की ब्रिटेन में पिछले 25 वर्षों से चल रही खेती के कारण वहाँ पाए जाने वाली कुछ चिड़ियों की संख्या 90 फीसदी तक कम हो गई है। कुछ वैज्ञानिक मानते हैं कि यदि इन पौधों की खेती में कमी न लाई गई तो जल्दी ही इसके कुछ और व्यापक रूप से हानिकारक प्रभाव सामने आने लगेंगे।

सर्वेक्षणों के मुताबिक भारत में भी पक्षियों की 78 प्रजातियों के लुप्त होने का ख़तरा पैदा हो गया है। भारत के बाहर हर आठ में से एक पक्षी की प्रजाति पर संकट है जबकि भारत में 1200 में से 78 पक्षियों की प्रजातियाँ लुप्त होने के कगार पर पहुँच गई हैं।

पक्षी वैज्ञानिकों का मानना है कि समय रहते यदि उपाय नहीं किए गए तो मौजूदा पक्षियों में से कई प्रजातियाँ अगले दस वर्षों में समाप्त हो जाएँगी। सर्वेक्षणों के अनुसार भारत में पक्षियों के समाप्त होने की दर लगातार बढ़ रही है। मनुष्य द्वारा खेत को बचाने के लिए पक्षियों को मारना, उनका शिकार करना और पकड़ कर बाज़ार में बेचना इन पक्षियों के लुप्त होने का कारण बन रहा है।

विगत 100 वर्षों में समाप्त हो गईं पक्षियों की 128 प्रजातियाँ

बांबे नैचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के अधिकारी आइजेक केहिमकर के अनुसार हालाँकि पक्षियों का लुप्त होना समयबद्ध प्राकृतिक प्रक्रिया है, लेकिन दुनिया भर में पर्यावरण पर मानवजनित प्रभाव पड़ने से पक्षियों के समाप्त होने में इसका असर ज़्यादा दिखाई पड़ रहा है। उनका कहना है कि स्थिति निश्चित रूप से चिंताजनक है। हर पक्षी की प्रजाति सौ वर्ष में समाप्त होती है लेकिन रिकार्ड बताते हैं कि पिछले सौ वर्षों में पक्षियों की 128 प्रजातियाँ समाप्त हुई हैं। वर्ष 1800 के बाद से 103 प्रजातियों के लुप्त होने का अनुमान है।

पक्षियों की 182 प्रजातियों पर खतरे के बादल

इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर के अनुसार दुनिया भर में पक्षियों की 182 प्रजातियाँ ख़तरे में है। ऐसे भी संकेत मिले हैं कि जिस तरह से इनका अस्तित्व मिट रहा है, अगले दस वर्षों या तीन पीढ़ियों बाद ये प्रजातियाँ लुप्त हो जाएँगी। पक्षियों पर लगातार किए जा रहे अध्ययन से पता चला है कि भारत में जिन सात पक्षियों के विलुप्त होने का सर्वाधिक ख़तरा है उनमें गुलाबी गर्दन वाला बतख रेहनोदोनेसा केरियोसाइला लुप्त प्राय: है। लगभग 117 साल बाद फिर से खोजी गई उल्लू की दुर्लभ प्रजाति अथेने बेलविट्टी और 86 वर्ष बाद खोजी गई जर्मन की टाइनोपेलिस विटोक्यूयस भी ख़तरे की स्थिति में है। यही नहीं हिमालय की कंदराओं में पाया जाने वाला बटेर ओपरेसिया सुपर सिलीओसा के भी समाप्त होने की आशंका है। साईबेरिया का सारस ग्रुस ल्यूकोगेनोरस भी कम होता जा रहा है।

भारत में विलुप्त होने के कगार पर पक्षियों की 76 प्रजातियाँ

मंदार नेचर क्लब (भागलपुर) के पूर्व सचिव अरविंद मिश्र का कहना है कि भारत में पक्षियों की 76 प्रजातियाँ विलुप्त होने के कगार पर हैं। यह स्थिति तब है जब देश में वन्य जीवों के संरक्षण के उद्देश्य से 75 राष्ट्रीय उद्यान, 447 अभयारण्य, 22 व्याघ्र परियोजनाएँ और 8 बायोस्फेयर हैं। बिहार की स्थिति अन्य राज्यों की तुलना में बद से बदतर है। मिश्र बताते हैं कि अब हर्गिल, गरूड़, धींक, चोई, कालजंगा, सारस, टिमटिमिया तो नज़र ही नहीं आते जो हाल-हाल के वर्षों तक देश और ख़ास कर बिहार में देखे जाते थे। इसके अलावा छोटा गरूड़, मछरंग, खेरमुतिया, लोहासांरग, चमचा बजा, क्रोंच, बड़ी सिल्ली के भी दर्शन कभी-कभार होते हैं।

वन्य जीव विशेषज्ञों के अनुसार फसलों की पैदावार बढ़ाने के लिए प्रयोग में लाए जा रहे कई कीटनाशक, जो विश्व में प्रतिबंधित हैं, वे भारत में धड़ल्ले से प्रयुक्त हो रहे हैं। पशु-पक्षियों की प्रजातियों को बचाने के लिए यह ज़रूरी है कि कृषि विभाग प्रतिबंधित कीटनाशकों को कड़ाई से प्रतिबंधित करे ताकि कोई भी उनका उपयोग न कर सके, तभी जाकर इस तरह की घटनाओं से बचा जा सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार कीटनाशक प्रभावित चारा खाकर मरने वाले पशु-पक्षियों का माँस गिद्धों के लिए भी काल बन रहा है और यही वजह है कि दुनियाभर में गिद्ध आज लुप्त होते जा रहे हैं।

पक्षी एवं उनके माध्यम से संपूर्ण जैव-विविधता का संरक्षण करने के लिए अमेरिका, यूरोप सहित अन्य देशों में ‘महत्वपूर्ण पक्षी स्थल कार्यक्रम’ शुरू किया गया है। इस कार्यक्रम के तहत भारत में शुरू हुए अभियान में ‘इंडियन वर्ड कंजरवेशन नेटवर्क’ ने इस दिशा में काम करने वाली संस्थाओं को एकजुट करके उन्हें प्रशिक्षण देना शुरू किया है और महत्त्वूपर्ण पक्षी स्थलों की पहचान की जा रही है। इस कार्य में देश की दो संस्थाओं वर्ड लाईफ इंटरनैशनल और रॉयल सोसायटी फॉर द प्रोटेक्शन ऑफ बर्ड्स की भी मदद मिल रही है। इन उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए नेटवर्क ने विभिन्न राज्यों में पक्षियों के क्षेत्र में विशेष अनुभव और दिलचस्पी रखने वाले लोगों को राज्य समन्वयक नियुक्त किया है।

लंदन के पक्षी विशेषज्ञ ग्राहम माडेज ने तो पंछियों ख़ासकर चिड़ियों को बचाने के लिए जनता से अनुरोध किया है कि वह अपने घरों में चिड़ियों के रहने के लिए घोंसले जैसे बक्से बनाएँ। ख़ासकर प्रजनन के समय और जाड़े में चिड़ियों को खाने की सुविधा प्रदान करें और अपने घर के बाहर बगीचों में थोड़ी जगह चिड़ियों के लिए भी छोड़े ताकि वे वहाँ आकर अपने घौंसलें बना सकें।

पक्षी संरक्षण के लिए जनचेतना और जनसहभागिता आवश्यक

पक्षी विशेषज्ञ पक्षियों को लुप्त होने से बचाने के लिए जनचेतना और जनसहभागिता को ज़रूरी समझते हैं। वन्य जीवों और वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन (Convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora (CITES) और नेशनल बायोडाइवर्सिटी स्ट्रेजिस एँड एक्शन प्लान तो पक्षियों को बचाने और जनचेतना पैदा करने के अभियान में बढ़-चढ़ कर जुटी है।

पक्षियों को विलुप्त होने से बचाने के लिए क्या जरूरी?

पक्षियों को विलुप्त होने से बचाने के लिए एक दीर्घकालीन कार्य योजना को अमल में लाने की आवश्यकता है। प्रदूषित होते वातावरण और धरती के बढ़ते तापमान पर भले ही हमारा वश न चले लेकिन पक्षियों की चहचहाहट को ज़िंदा रखने के लिए हम एहतियाती उपाय तो कर ही सकते हैं। आख़िर चिड़ियों की चहचहाहट से सूना होता आँगन भला किसको अच्छा लगेगा?

गुरमीत बेदी

(मूलतः देशबन्धु में प्रकाशित लेख का किंचित् संपादित रूप साभार)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner