Home » समाचार » देश » सोनभद्र बना मजदूरों की कब्रगाह – दिनकर
Accident in 'C' project under construction of Obra

सोनभद्र बना मजदूरों की कब्रगाह – दिनकर

ओबरा ‘सी‘ में दुर्घटना स्थल का दौरा किया. Visited the crash site in Obra ‘C’

मजदूरों की जीवन सुरक्षा के नहीं हो रहे इंतजाम. There are no arrangements for the life security of the workers

12 जनवरी को सम्मेलन में उठेगा मजदूरों की जीवन सुरक्षा का सवाल

ओबरा, सोनभद्र, 7 जनवरी 2020, उत्तर प्रदेश का दूसरा बड़ा औद्योगिक केन्द्र (Second largest industrial center in Uttar Pradesh) सोनभद्र मजदूरों की कब्रगाह में तब्दील हो गया है। मजदूरों की जीवन सुरक्षा के लिए दिए उच्च न्यायालय के आदेश, शासनादेश व जिला श्रम बंधु की बैठक (District Shram Bandhu’s Meeting) में लिए निर्णयों का भी अनुपालन उद्योगों में नहीं कराया जा रहा है। ओबरा की निर्माणाधीन ‘सी‘ परियोजना में हुई दुर्घटना (Accident in ‘C’ project under construction of Obra,) में मृत व घायल किसी मजदूर का निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण (Registration in labor welfare board) नहीं था। लगातार इस पर अपर श्रमायुक्त के आदेशों को लागू नहीं किया जा रहा है।
यह बयान आज ओबरा सी प्लांट में हुई दुर्घटना स्थल का दौरा करने के बाद श्रम बंधु व वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष दिनकर कपूर ने जारी किया।

उन्होंने घटना का निरीक्षण करने आयी सहायक निदेशक कारखाना श्वेता वर्मा व दुशान व ओबरा तापीय परियोजना के मौके पर मौजूद प्रतिनिधियों से भी अपनी आपत्ति दर्ज करायी।

श्री कपूर ने कहा कि सोनभद्र जनपद की अनपरा तापीय परियोजना में तो जंगल राज कायम हो गया है। मजदूरों की जिदंगी को कीड़े मकोड़े की हालत में पहुंचा दिया गया है। एक साल में कई दुर्घटनाओं में मजदूर मर चुके हैं या घायल हो चुके हैं। बावजूद इसके मजदूरों को सुरक्षा उपकरण नहीं दिए जाते। यदि जसपाल सिंह को सेफ्टी बेल्ट दी होती तो उसकी जान बच जाती। ओबरा में हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी सभी मजदूरों को सुरक्षा उपकरण नहीं दिए गए। हिण्डालकों तक में पिछले वर्ष राजेश सोनी से लेकर कई मजदूर मरे और कई बुरी तरह घायल हो चुके है। शीध्र ही इस पर विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर उ0 प्र0 शासन को भेजी जायेगी और यदि तब भी कार्यवाही नहीं हुई तो मजदूरों की जीवन सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट में याचिका डाली जायेगी।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

उन्होंने बताया कि 12 जनवरी को पिपरी नगर पंचायत सभागार में आयोजित ठेका मजदूर यूनियन के जिला सम्मेलन में सोनभद्र के मजदूरों के जीवन सुरक्षा का सवाल प्रमुख सवाल बनाया जायेगा। सम्मेलन के मुख्य अतिथि स्वराज अभियान के राष्ट्रीय नेता अखिलेन्द्र प्रताप सिंह होंगे। उन्होंने मजदूरों से इस सम्मेलन में बड़ी संख्या में हिस्सेदारी की अपील की।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Modi in Gamchha

गहरे संकट में अर्थव्यवस्था : जीडीपी का 34% पहुंच चुका है भारत सरकार का वित्तीय घाटा !

नई दिल्ली, 03 जुलाई 2020. भारत की विकास दर (India’s growth rate) रसातल में पहुंच …

Leave a Reply