Home » Latest » एक ‘छत्रसाल’ हम सबके भीतर है
entertainment

एक ‘छत्रसाल’ हम सबके भीतर है

Chhatrasal Web Series MX Player review

छत्रसाल वेब सीरीज एमएक्स प्लेयर समीक्षा

मादरे वतन हिंदुस्तान की धरती पर पांच बार घुटनों के बल होने वाले आक्रमणकारी मुगलिया सल्तनत के विनाश की कहानी है छत्रसाल। बुंदेलखंड के वीर, नामवर यौद्धा की कहानी है छत्रसाल। अपनी मातृभूमि के लिए अपनी आन, बान, शान की कुर्बानी देने वालों की कहानी है छत्रसाल। रूखा, सूखा खाकर अपनी मातृभूमि को आज़ाद करवाने की ललक और तड़प लेकर पैदा होने वालों की कहानी है छत्रसाल। हजारों की सेना पर अकेला भारी पड़ने वालों कहानी है छत्रसाल। प्रेम, करुणा, दया का सागर बहाने वालों की कहानी है छत्रसाल। और कुछ जानना बाकी है? वाक़ई?

बुंदेलखंड की धरती पर 1649 में पिता चंपत, माता सारंधा के यहां जन्में महाराज छत्रसाल के जन्म लेने की कहानी जितनी रोचक है उतनी ही उनके 82 वर्ष के जीवन काल में 44 वर्ष राज करने तथा 52 युद्धों में वीरता से लड़ने की कहानी भी रोचक है। इस पर अब कोई सीरीज या फ़िल्म बनकर आए तो जाहिर सी बात है उसका स्वागत किया जाएगा। फूल, मालाओं से और होना भी चाहिए। हमारे देश भारत में एक से एक कहानियां इन वीर योद्धाओं की भरी पड़ी हैं।

इस सीरीज की कहानी शुरू होती है 1634 के भारत से लेकिन फिर थोड़ा आगे 1649 में जाती है। फिर 1658 लेकिन फिर एक बार 1640 में लौट आती है। आगे, पीछे जाकर यह क्रम तो बखूबी निभा ले गए निर्माता, निर्देशक लेकिन इस बीच कुछ छोड़ भी दिया।

जब घने जंगल में बालक छत्रसाल एक आदमखोर बाघ से नवजात को बचाकर लाता है तब हल्की-हल्की आग की लपटें उठ रही होती हैं। अब कोई घने जंगल में जब आधी रात नहीं जाता तो आग किसने लगाई?

ऐसे ही जब छत्रसाल के माता-पिता का सिर कलम करके लाया जाता है तब वह भी सचमुच का, असली नहीं लगता। खैर ऐसी ही कुछ छोटी-छोटी सी लेकिन भारी और बड़ी गलती तथा कमजोर वीएफएक्स के कारण यह जानदार कहानी उतनी शानदार नहीं हो पाती।

कहानी 16 साल के शहजादे औरंगजेब से शुरू होती है जो धीरे-धीरे इतना क्रूर होता चला जाता है कि अपने बूढ़े बाप, जिसने प्रेम की मूरत ताजमहल बनवाया, उस को नजरबंद कर खुद शहंशाह-ए-आलमगीर, बादशाह-ए-औरंगजेब बन जाता है। जो चाहता है इस हिंदुस्तान का हर शख्स सिर्फ इस्लाम की राह पर चले। फिर भले इसके लिए मंदिरों को खंडहरों में बदलना पड़ा हो, मूर्तियों को मिट्टी में मिलाना पड़ा हो, जबरन धर्मपरिवर्तन कराना पड़ा हो या जिन्होंने इस्लाम कबूल नहीं किया उन्हें मौत के घाट उतारना पड़ा हो। इतना ही नहीं फसलों में आग, पानी में जहर घोलने वाले इन मुगलों द्वारा भुखमरी फैलाई गई लेकिन बावजूद इसके कुछ लोग ऐसे थे हमारे इतिहास में जिनकी सदियों तक गौरवगाथा गाई जाती रही है और आगे भी गाई जाती रहेगी।

नायाब चीजों को पाने का ख्वाब देखने या उन्हें न पाने के मलाल में तबाह, तहस-नहस कर देने की कहानी इससे पहले हम संजय लीला भंसाली की पद्मावतमें भी देख चुके हैं। लेकिन वैसा ही जानदार लेकिन शानदार न होना इस सीरीज की कमी है। बावजूद इसके यह छत्रसाल जानदार है, शानदार है, आनदार है।

छत्रसाल ने पिता से बहादुरी तथा माता से गुण एवं संस्कार जो पाए उन पर वे आजीवन चले। इसलिए युद्ध की ललकारों के बीच जब मासूम सी किलकारी छत्रसाल की गूंजी तो एक उम्मीद की किरण फूटी। जीवन और मृत्यु के द्वंद्व के बीच पैदा हुआ यह बालक असाधारण था तभी मुगलों के अस्तित्व का इस बालक ने हिंदुस्तान से ख़ात्मा किया। अपनी मां के वचनों का पालन कर डर को अपने भीतर से खत्म कर बुंदेलखंड को न केवल आज़ाद करवाया बल्कि अपने प्रेम , सौहार्द के व्यवहार से सदा-सदा के लिए अपना नाम स्वर्णाक्षरित करवा लिया।

एक समय बहन ने संकट के समय साथ छोड़ा, ग्रामवासियों ने पानी तक नहीं पूछा लेकिन बावजूद अपने पहाड़ जैसे इरादों को लिए संघर्ष की आग में तप कर सुदूर पहाड़ों, बीहड़ों समेत पूरे बुंदेलखंड पर राज किया। उसे अपना बनाया तथा अपना अस्तित्व भी कायम रखा। इस सीरीज में जातीय परंपरा को किनारे कर जान बचाने की कहानी भी है। मूसा पैग़म्बर के सहयोगी की छोटी सी कहानी भी है। भगवान राम की कहानी भी है। परमधाम की शक्ति जो छत्रसाल को बचपन से ही उसके जीवन में आने वाले संकटों से पहले आगाह करती आई है उसकी कहानी भी है।

ऐसे वीर योद्धा की कहानी प्रेरक है लेकिन कमजोर वीएफएक्स और निर्देशन एवं कुछ सहयोगी कलाक़ारों की कमजोर एक्टिंग की कमियों, मेकअप के चलते यह कहीं-कहीं चूकती भी है।

सूत्रधार नीना गुप्ता ने अच्छा काम किया लेकिन जब-जब वे  पर्दे पर आईं तो अतिशय भव्यता नजर आती है जो बाकी सीरीज में राजदरबार को छोड़ गायब हो जाती है।

आशुतोष राणा ने कमाल किया है। उनके हिस्से में आए भारी भरकम संवादों को वे भरपूर जीते हैं। उनके लिए यह सीरीज देखी जा सकती है। जतिन गुलाटी, वैभवी शांडिल्य, मनीष वधवा, अनुष्का लुहार का अभिनय मिलाजुला रहा। छत्रसाल के बचपन के किरदार में रुद्र सोनी बेहतर लगे।

अपनी रेटिंग – 3 स्टार

तेजस पूनियां

शिक्षा- शिक्षा स्नातक (बीएड), स्नातकोत्तर हिंदी  

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में तेजस पूनियां

तेजस पूनियां लेखक फ़िल्म समीक्षक, आलोचक एवं कहानीकार हैं। तथा श्री गंगानगर राजस्थान में जन्में हैं। इनके अब तक 200 से अधिक लेख विभिन्न राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। तथा एक कहानी संग्रह 'रोशनाई' भी छपा है। प्रकाशन- मधुमती पत्रिका, कथाक्रम पत्रिका ,विश्वगाथा पत्रिका, परिकथा पत्रिका, पतहर पत्रिका, जनकृति अंतरराष्ट्रीय बहुभाषी ई पत्रिका, अक्षरवार्ता अंतरराष्ट्रीय मासिक रिफर्ड प्रिंट पत्रिका, हस्ताक्षर मासिक ई पत्रिका (नियमित लेखक), सबलोग पत्रिका (क्रिएटिव राइटर), परिवर्तन: साहित्य एवं समाज की त्रैमासिक ई-पत्रिका, सहचर त्रैमासिक पीयर रिव्यूड ई-पत्रिका, कनाडा में प्रकाशित होने वाली "प्रयास" ई-पत्रिका, पुरवाई पत्रिका इंग्लैंड से प्रकाशित होने वाली पत्रिका, हस्तक्षेप- सामाजिक, राजनीतिक, सूचना, चेतना व संवाद की मासिक पत्रिका, आखर हिंदी डॉट कॉम, लोक मंच, बॉलीवुड लोचा सिने-वेबसाइट, साहित्य सिनेमा सेतु, पिक्चर प्लस, सर्वहारा ब्लॉग, ट्रू मीडिया न्यूज डॉट कॉम, प्रतिलिपि डॉट कॉम, स्टोरी मिरर डॉट कॉम, सृजन समय- दृश्यकला एवं प्रदर्शनकारी कलाओं पर केन्द्रित बहुभाषी अंतरराष्ट्रीय द्वैमासिक ई- पत्रिका तथा कई अन्य प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं, ब्लॉग्स, वेबसाइट्स, पुस्तकों आदि में 300 से अधिक लेख-शोधालेख, समीक्षाएँ, फ़िल्म एवं पुस्तक समीक्षाएं, कविताएँ, कहानियाँ तथा लेख-आलेख प्रकाशित एवं कुछ अन्य प्रकाशनाधीन। कई राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों में पत्र वाचन एवं उनका ISBN नम्बर सहित प्रकाशन। कहानी संग्रह - "रोशनाई" अकेडमिक बुक्स ऑफ़ इंडिया दिल्ली से प्रकाशित। सिनेमा आधारित संपादित पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य -अमन प्रकाशन (कानपुर) अतिथि संपादक - सहचर त्रैमासिक पीयर रिव्यूड पत्रिका

Check Also

entertainment

कोरोना ने बड़े पर्दे को किया किक आउट, ओटीटी की बल्ले-बल्ले

Corona kicked out the big screen, OTT benefited सिनेमाघर बनाम ओटीटी प्लेटफॉर्म : क्या बड़े …

Leave a Reply