पांच साल संविदा पर रखने के सरकारी फरमान का कल होगा विरोध

There will be a protest tomorrow against the government’s order to keep the contract for five years

रोजगार बने मौलिक अधिकार का नारा पूरे देश में गूंजेगा

लखनऊ, 13 सितंबर 2020, पांच साल तक सरकारी भर्तियों में कर्मचारियों को संविदा पर रखने के योगी सरकार के फरमान का कल युवा मंच समेत अन्य संगठनों द्वारा रोजगार अधिकार दिवस में  विरोध किया जायेगा। कल संसद के मानसून सत्र के पहले दिन रोजगार बने मौलिक अधिकार पर आयोजित देशव्यापी कार्यक्रम की तैयारी के लिए आज युवा मंच की प्रदेश समिति की वर्चुअल मीटिंग यह निर्णय हुआ. बैठक में केंद्र सरकार द्वारा किये जा रहे अंधाधुंध निजीकरण और नई पेंशन स्कीम का विरोध करने, रोजगार व विकास की गारंटी करने, रिक्त 24 लाख पदों को शीघ्र भरने, बेकारी भत्ता समेत सीमा विवाद को हल करने की मांगों को उठाने का भी फैसला हुआ. बैठक में इलाहाबाद के सलोरी में पीसीएस में चयनित न हो पाने के कारण छात्र द्वारा आत्महत्या करने पर गहरा दुःख व्यक्त किया गया.

बैठक में कल युवा हल्ला बोल के फेसबुक पेज पर आयोजित युवा संसद को बड़े पैमाने पर देखने की नौजवानों से अपील की गयी. बैठक में राजेश सचान, अनिल सिंह, विनोवर शर्मा, अम्बुज मलिक,शैलेश मौर्य, स्नेहा राय, करन सिंह, जितेंद्र धांगर, नागेश गौतम, आमिर खान, अमित सिंह, अश्विनी कुमार चंदवन, शहनवाज खान आदि लोगों ने अपनी बात रखी. संचालन आलोक राजभर ने किया.

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations