मोदीजी के दीया जलाने के आह्वान पर सेंटी हो गया ये चिकित्सक, लिख डाली कविता

This doctor become sentimental on Modi’s call to light a lamp, writes a poem

नई दिल्ली, 05 अप्रैल 2020. यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद के प्लास्टिक एवं कॉस्मेटिक सर्जन डॉक्टर मुकेश कुमार (Plastic and Cosmetic Surgeon Doctor Mukesh Kumar of Yashoda Super Specialty Hospital Kaushambi Ghaziabad) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रात्रि 9 बजे नौ मिनट दीया जलाने के आह्वान को (#9baje9minute)  इस विपदा  के समय में पूरी तरह से उलझे हुए एवं निरउत्साहित लोगों के दिल में उम्मीद की किरण जगाने वाली लौ का नाम दिया है।

डॉ. मुकेश कुमार का कहना है कि ऐसे में जब सब लोग मिलकर के दिया जलाएंगे तो उनमें विपत्ति में एक साथ मिलकर परेशानी को झेलने एवं उससे लड़ने की क्षमता का विकास होगा।

डॉ मुकेश कुमार द्वारा रचित कविता :

महादेव के त्रिनेत्र सा,

चमकेगा एक ध्रुवतारा !!

जगमग होगी हिंद की धरा,

चारों ओर  उजियारा!!

हिंदू मुस्लिम की जीत यह,

नहीं किसी की है पराजय !!

मनोविज्ञान के अबूझ मंत्र से, अवसादों पर कर विजय !!

सुन ले जयचंद मीर जाफर,

सदा तुम्हारा हार हुआ !!

विषाणु की क्या बिसात,

जब रक्तबीज का भी संहार हुआ!!

दीप जलेंगे, दिए जलेंगे,

नहीं कहीं अंधकारमय!!

देश के दुश्मन बोल पड़ेंगे,

तमसो मा ज्योतिर्गमय,

तमसो मा ज्योतिर्गमय ।।

यह भी पढ़ना न भूलें

#9baje9minute : पहले से ही हम घोर संकट में हैं तब मोदीजी एक नया संकट जानबूझकर क्यों पैदा किया गया है

अगर मोदी सरकार का लक्षित राजनीतिक निवेश सफल रहा, तो स्वास्थ्य कर्मचारियों के बुरे दिन शुरू हो जाएंगे

कोरोना का कहर : यूरोप और अमेरिका में मुक्त बाजार से महाविनाश शुरू हो गया है, गांव और किसान बचे रहेंगे तो भारत न यूरोप और न अमेरिका बनेगा

कोरोना से लड़ने के नाम पर पांच अप्रैल को दिया जलाने का आह्वान अवैज्ञानिक, अंधविश्वास फैलाने वाला : माले

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations