Home » Latest » लेकिन तुम उस महामानव के विचारों से अब भी क्यों डरते हो?
रजनीश कुमार अम्बेडकर (Rajnish Kumar Ambedkar) पीएचडी, रिसर्च स्कॉलर, स्त्री अध्ययन विभाग महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र)

लेकिन तुम उस महामानव के विचारों से अब भी क्यों डरते हो?

महामानव के विचार

जब हम चढ़ाते हैं

ऐसे महामानव पर दो फूल

तो डगमगा जाता है…!

उनका सिंहासन

वे डर जाते हैं

कहीं ठप्प न हो जाए

उनकी दुकान…!!

हम चुपचाप फिर भी

उस महामानव के बताए

रास्ते पर चलना चाहते हैं…!

वे मिटाना चाहते हैं

उनकी पहचान

और उनके विचारों को भी

पर वे बंधे हुए हैं

ऐसे विचारों से…!!

कुछ क्षण के लिए

 पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

उनको दबा सकते हो

पर उनको मार नहीं सकते…!

वे उभरकर आएगें

फिर से एक नए

जनसैलाब के साथ…!!

लेकिन तुम उस महामानव के

विचारों से अब भी क्यों डरते हो?

कहीं उनकी वजह से

बंद न हो जाए तुम्हारा रोजगार

(9 जुलाई 2020, वर्धा में लिखी गई)

 

रजनीश कुमार अम्बेडकर

पीएचडी, रिसर्च स्कॉलर, स्त्री अध्ययन विभाग

महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र)

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Lockdown, migration and environment

वैक्सीन की तरह संदेह भरी मजदूरों की जिंदगी

Life of laborers with suspicion like vaccine कोरोना से निजात पाने के लिए सबको एक …