Home » समाचार » देश » मोदी सरकार द्वारा एलआईसी को बेचना देशद्रोह -अजीत यादव
National News

मोदी सरकार द्वारा एलआईसी को बेचना देशद्रोह -अजीत यादव

Treason for selling LIC by Modi government – Ajit Yadav

मोदी सरकार द्वारा एलआईसी को बेचने के फैसले के विरोध में  जिलाधिकारी बदायूँ को दिया प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन

बदायूँ 06 फरवरी। मोदी सरकार का एलआईसी को बेचने का फैसला देशद्रोह है। यह 42 करोड़ देशवासियों की खून पसीने की कमाई पर शेयर बाजार के जरिये बड़े पूंजी घरानों और विदेश कंपनियों का कब्जा कराने की साजिश है।

उक्त वक्तव्य संविधान रक्षक सभा के उपाध्यक्ष अजीत सिंह यादव ने आज जारी बयान में दिया। इससे पहले संविधान रक्षक सभा के प्रतिनिधिमंडल ने एलआईसी को बेचने के विरोध में आज जिलाधिकारी बदायूँ के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा। ज्ञापन में एलआईसी को बेचने का फैसला वापस लेने की मांग की गई।

श्री यादव ने कहा कि मोदी सरकार की ओर संसद में बजट पेश करते हुए 01 फरवरी को  केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एलआईसी में आईपीओ के जरिये सरकारी हिस्सेदारी बेचने की घोषणा की थी।

शेयर बाजार में सूचीबद्ध कर मोदी सरकार एलआईसी को खुले बाजार में बेच रही है। एलआईसी देश की सबसे बडी बीमा कंपनी है जिसके पास 31 लाख करोड़ से ज्यादा की परिसंपत्तियां हैं। जब एलआईसी बनी थी तब सरकार ने इसमें मात्र 5 करोड़ रुपये लगाए थे। तब से लेकर आज तक इसने सरकार और देश को फायदा पहुंचाया है। इस साल एलआईसी ने सरकार को 2611 करोड़ रुपया का डिविडेंट दिया है। एलआईसी रेलवे में हर साल 20 हजार करोड़ का निवेश करती है। यह सरकारी योजनाओं और जनता के हित में निवेश करती है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya
उन्होंने कहा कि एलआईसी से 42 करोड़ देशवासी जुड़े हुए हैं। वह एक प्रोफिटमैकिंग कंपनी है। एलआईसी का निजीकरण होने से 42 करोड़ देशवासियों की मेहनत से कमाई बचत पूंजी पर बड़े पूँजीघरानों और विदेशी कंपनियों का कब्जा हो जाएगा और जनहित की योजनाओं में एलआईसी का निवेश बंद हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि एलआईसी को बेचना देशहित और जनहित के विरुद्ध है इसलिए सरकार इस फैसले को वापस ले।

ज्ञापन देने वाले प्रतिनिधिमंडल में संविधान रक्षक सभा के मुस्लिम अंसारी, डॉ नफीसुर्रहमान, वीरेंद्र जाटव, फैसल अहमद आदि पदाधिकारी शामिल रहे।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

air pollution

ठोस ईंधन जलने से दिल्ली की हवा में 80% वोलाटाइल आर्गेनिक कंपाउंड की हिस्सेदारी

80% of volatile organic compound in Delhi air due to burning of solid fuel नई …

Leave a Reply