Home » Latest » तुमने तभी माँग ली थी…आख़िरी विदा…
Tribute to father

तुमने तभी माँग ली थी…आख़िरी विदा…

….दूसरी बार जब एडमिट हुए तो ज़्यादा बोले नहीं..

सोये पड़े रहते थे…तुम…

कुछ कहना चाहते थे भी तो..

शायद.. आवाज़ घर्रा कर..

बाईपैप के.. पाइप में…घुट जाती थी…

शरीर अशक्त…

हाथ दुबले…बहुत दुबले…

उठने के क़ाबिल नहीं बचे थे…

बस उँगलियाँ हिलती थीं कभी-कभी कराहते थे तुम..

इस पर पिछली बार वाला झूठ दोहराती मैं….

”फ़ाइलें तैय्यार हो रही हैं तुम्हारी बस कल घर चलेंगे“..

सुनकर तुम्हारी बुझी बुझी आँखें…खुलने की मशक़्क़त करतीं….

मगर कोरों से देख मुझे….

वापस मुंद जातीं…

वो शायद पकड़ चुकी थीं…मेरा झूठ….

उस आख़िरी रात भी..

मैंने तुम्हारे सर पर हाथ फेरते हुए देर तक की थी तुमसे बातें…

हाँ मैंने कहा था..

उठो..

पाठ करो.. रामायण.. का…

बचपन से रोज़ तुम्हें चौकी पर बैठ कर…

ऐसे ही दिन शुरू करते जो देखा था..

सुनकर तुमने भी हौले से दबायी उँगली मेरी..

बस एक बार…

शायद..

तुमने तभी माँग ली थी…आख़िरी विदा…

मगर मैं समझ ही नहीं पाई थी वो इशारा….

सुबह तक तो तुम..

तुम लगे ही नहीं..

बड़ा अजीब मंज़र था..

आज तक ज्यों का त्यों घूम जाता है अक्सर आँखों के आगे…

उस दिन मैंने देखा था..

इक शांत पड़े जिस्म से जूझते हुए उसे..

तमाम मॉनीटरों और वेन्टीलेटर के पाइपों से छुड़ा रही थी वो ख़ुद को…

बदन से पूरी पूरी बाहर थी….

तुम्हारी रूह…

बस चंद साँसों की उलझन थी उसके पैरों में…

और फिर एक झटका पाँव का उसके….

वो सब कुछ तोड़ गयी…पापा……

डॉ. कविता अरोरा

(kavita )

Tribute to father

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health impact

नयी नीतियां बनाने के साथ वर्तमान नीतियों का क्रियान्‍वयन भी जरूरी : विशेषज्ञ

Along with making new policies, implementation of existing policies is also necessary: Expert मुंबई, 2 मार्च 2021.. विशेषज्ञों, सिविल सोसायटी …

Leave a Reply