सुब्रमण्यम स्वामी हार्वर्ड से बाहर निकाला गया था ? जावेद अख्तर ने स्वामी को क्यों सुलगा दिया ?

जावेद अख्तर और सुब्रमण्यम स्वामी में ट्विटर वार

Twitter war in Javed Akhtar and Subramanian Swamy

नई दिल्ली, 14 मार्च 2020. कोरोनावायरस से संघर्ष करने के लिए भारत भले ही तैयार न हो, लेकिन ट्विटर पर एक अलग ही लड़ाई चल रही है। शनिवार सुबह को यह लड़ाई किसी और के बीच नहीं, बल्कि भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी और गीतकार जावेद अख्तर के बीच ट्विटर पर देखी गई।

स्वामी द्वारा 8 जून 2018 का एक लेख, जिसमें आस्ट्रिया में सात मस्जिदों को बंद करने और 60 इमामों को धक्के देकर निकालने की बात कही गई थी, साझा किए जाने के बाद जावेद अख्तर ने उस पर तीखी प्रतिक्रिया दी।

जावेद ने ट्वीट किया,

“जैसे कि आपको हार्वर्ड से बाहर निकाला गया था? आप इसी लायक हैं भी और मैं निश्चित हूं कि इमामों ने भी कुछ ऐसा ही किया होगा। आप सब एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हो।”

हालांकि भाजपा सांसद ने जो लेख साझा किया है, वह साल 2018 का है। यह लेख द वॉक्स में छपा था, जिसमें मस्जिदों को बंद किए जाने की खबर भी छपी थी।

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations