Home » समाचार » देश » कोरबा नगर निगम में माकपा के दो प्रत्याशी विजयी
CPIM

कोरबा नगर निगम में माकपा के दो प्रत्याशी विजयी

Two CPI-M candidates won in Korba Municipal Corporation

प्रदेश के नगर निकायों में माकपा का कोरबा से प्रवेश, पार्टी ने जनता का अदा किया शुक्रिया, कहा — जनसंघर्षों को समर्पित है यह जीत

रायपुर, 24 दिसंबर 2019. प्रदेश में पहली बार माकपा ने नगर निकाय में जीत हासिल की है और प्रवेशद्वार बना है कोरबा नगर निगम, जहां माकपा के दोनों प्रत्याशी कांग्रेस-भाजपा के दिग्गजों को भारी मतों से हराकर पार्षद का चुनाव जीत गए हैं।

माकपा ने पार्टी को मिली इस जीत के लिए जनता और कार्यकर्ताओं का शुक्रिया अदा किया है और इस जीत को स्थानीय समस्याओं पर चलाये गए जनसंघर्षों को समर्पित करते हुए वादा किया है कि वह कांग्रेस-भाजपा की कॉर्पोरेटपरस्त नीतियों के खिलाफ जनहितैषी राजनैतिक विकल्प को प्रस्तुत करेगी।

माकपा राज्य सचिवमंडल द्वारा जारी एक बयान में जानकारी दी गई है कि पार्टी ने कोरबा नगर निगम में भैरोताल वार्ड से सुरती कुलदीप व मोंगरा वार्ड से राजकुमारी कंवर को अपना प्रत्याशी बनाया था। दोनों महिला सुरक्षित वार्डों से माकपा प्रत्याशियों ने निगम में अपना लाल झंडा फहरा दिया है।

सुरती कुलदीप ने 1161 वोट हासिल कर अपने निकटतम भाजपा प्रत्याशी को 444 मतों से पराजित किया है। यहां माकपा ने लगातार तीन बार पार्षद रहे कांग्रेस प्रत्याशी को तीसरे स्थान पर धकेल दिया, तो मोंगरा वार्ड से राजकुमारी कंवर ने 1055 वोट पाकर निकटतम कांग्रेस प्रत्याशी को 299  मतों से पराजित किया है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

माकपा राज्य सचिव संजय पराते और जिला सचिव प्रशांत झा, राज्य समिति सदस्य धनबाई कुलदीप और एस एन बेनर्जी, सपूरण कुलदीप* ने इसे सड़क, बिजली, पानी, रेल, भूमि अधिग्रहण से प्रभावित विस्थापितों, अनाप-शनाप ढंग से संपत्ति कर की वसूली और वनाधिकार जैसी जनसमस्याओं पर पार्टी द्वारा पिछले दस वर्षों से चलाए जा रहे अनवरत जनसंघर्षों का सकारात्मक परिणाम बताया है। उन्होंने कहा कि लोगों का दिल जीतकर ही माकपा चुनावी मैदान जीतने के लिए उतरी थी और माकपा द्वारा छेड़ी गई न्याय की लड़ाई राजनैतिक संबद्धताओं से ऊपर उठकर हर घर की लड़ाई में तब्दील हो गई थी। यही कारण है कि माकपा के जनबल के आगे इस बार कांग्रेस-भाजपा का धनबल और बाहुबल काम नहीं कर पाया और आम जनता ने निर्णायक रूप से सत्ता के लालच को ठुकराते हुए जनसंघर्षों की राजनीति के पक्ष में अपना फैसला सुनाया है।

जनता से मिले इस अभूतपूर्व समर्थन को सिर-माथे रखते हुए माकपा ने वादा किया है कि उसके दोनों जनप्रतिनिधि नगर निगम में कांग्रेस-भाजपा की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ प्रतिरोधी दीवार का काम करेंगे और हर मुद्दे पर जनता को विश्वास में लेकर जन समस्याओं के निराकरण के लिए मिल-जुलकर पहलकदमी करेंगे। माकपा ने कहा है कि कोरबा नगर निगम में मिली इस जीत की नींव पर वह जनसंघर्षों को विकसित कर कांग्रेस-भाजपा की कॉर्पोरेटपरस्त नीतियों के खिलाफ जिले में जनहितैषी राजनैतिक-सांगठनिक विकल्प का विकास करेगी।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Modi in Gamchha

गहरे संकट में अर्थव्यवस्था : जीडीपी का 34% पहुंच चुका है भारत सरकार का वित्तीय घाटा !

नई दिल्ली, 03 जुलाई 2020. भारत की विकास दर (India’s growth rate) रसातल में पहुंच …

Leave a Reply