Home » समाचार » कानून » यूपी पुलिस ने मायावती को दिया जवाब जंगलराज बीते दिनों की बात तो ट्विटराती बोले उन्नाव वाले दरिंदों को उड़ाओ तब पोस्ट करना श्रीमान जी……
Twitter

यूपी पुलिस ने मायावती को दिया जवाब जंगलराज बीते दिनों की बात तो ट्विटराती बोले उन्नाव वाले दरिंदों को उड़ाओ तब पोस्ट करना श्रीमान जी……

यूपी पुलिस ने मायावती को दिया जवाब जंगलराज बीते दिनों की बात तो ट्विटराती बोले उन्नाव वाले दरिंदों को उड़ाओ तब पोस्ट करना श्रीमान जी……

लखनऊ, 06 दिसंबर 2019. भाजपा राज में भले ही अपराध और अपराधी बढ़े हों, ए नकाउंटर्स पर सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किए हों और यूपी के बारे में सख्त टिप्पणी की हो, पर एक बात जरूर हुई है कि प्रशासनिक मशीनरी का खुलेआम राजनीतिकरण हुआ है और सरकारी महकमे अब भाजपा के आनुषंगिक संगठनों की तरह व्यवहार कर रहे हैं।

दरअसल टाइम्स नाउ चैनल ने बसपा सुप्रीमो मायावती के हैदराबाद एनकाउंटर पर बयान (BSP supremo Mayawati’s statement on Hyderabad encounter) की खबर का वीडियो डालते हुए ट्वीट किया था, “मायावती कहती हैं, ‘यूपी पुलिस को हैदराबाद पुलिस से सीखना चाहिए’।“ (‘U.P police must learn from the Hyderabad police’, says Mayawati.)

इस पर यूपी पुलिस के सत्यापित ट्विटर हैंडल से इस ट्वीट का उत्तर देते हुए ट्वीट किया गया

“आंकड़े खुद लिए बोलते हैं। जंगल राज अतीत की बात है। अब नहीं है।

पिछले 2 वर्षों में 5178 पुलिस की कार्रवाई में 103 अपराधी मारे गए और 1859 घायल हुए।

17745 अपराधियों ने आत्मसमर्पण किया या जेल जाने के लिए अपनी खुद की बेल रद्द करा ली।

मुश्किल से राज्य के मेहमान।“

यूपी पुलिस के ट्वीट (Tweets of UP police) पर ट्विटराती ने ट्रोलिंग शुरू कर दी।

एक यूजर ने ट्वीट किया –

“उन्नाव वाले दरिंदों को उड़ाओ तब पोस्ट करना श्रीमान जी……”

एक अन्य यूजर ने कहा,

“महोदय उन्नाव केस के आरोपियो को भी ऐसे ही जला दो तो सारे पाप धुल जायेंगे हमे पता है आप लोग अच्छा काम कर रहे है लेकिन उन्नाव केस में असमर्थता ने एक बदनुमा दाग लगा दिया है खाकी पर।“

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा हैदराबाद ‘एनकाउंटर’ स्पष्ट रूप से फर्जी प्रतीत होता है

 

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

अदालतों का राजनीतिक दुरुपयोग लोकतंत्र को कमज़ोर कर रहा है

Political abuse of courts is undermining democracy असलम भूरा केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.