न्यूज़ चैनल द्वारा दारुल उलूम देवबन्द को कोरोना केंद्र बताए जाने पर उलेमा आग बबूला

Ulama fires when news channel calls Darul Uloom Deoband as Corona Center

दारुल उलूम ने दी चैनल के खिलाफ थाने में तहरीर

वक्फ दारुल उलूम करेगा मानहानि का दावा

देवबन्द। एक निजी टीवी न्यूज चैनल द्वारा दारुल उलूम और वक्फ दारुल उलूम (Darul Uloom and Waqf Darul Uloom) को कोरोना का केंद्र बताए जाने पर दोनों संस्थाओं के जिम्मेदारों ने कड़ा रोष जताया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दारुल उलूम देवबन्द के मोहतमिम ने उक्त इलैक्ट्रोनिक चैनल के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है, वही दारुल उलूम वक़्फ़ के मोहतमिम ने ग़लत खबर के लिए माफ़ी न मांगने पर चैनल के खिलाफ मानहानि के दावे की चेतावनी दी है।

सोमवार को कोतवाली में दी तहरीर में दारुल उलूम देवबन्द के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम अंसारी नौमानी ने कहा कि एक न्यूज चैनल के ट्विटर हैंडल पर दारुल उलूम को कोरोना का हॉटस्पॉट बताते हुए अब तक दारुल उलूम में 47 लोगों के सक्रमण की फेक न्यूज चलाई गई है। यह खबर एक समुदाय के खिलाफ नफरत फैलाने वाली और समाज को तोडऩे वाली है। इससे देश भर में दारुल उलूम से मोहब्बत रखने वाले लोगों की भावनाएं आहत हुई है।

  अंसारी ने बताया कि लॉकडाउन के चलते वार्षिक परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थी। संस्था के अधिकांश छात्र अपने घरों को जा चुके है जबकि 1950 छात्र संस्था में है और यह सभी छात्र स्वास्थ्य विभाग की जांच में स्वस्थ पाए गए है।

वहीं, दारुल उलूम वक्फ के मोहतमिम मौलाना सुफियान कासमी ने भी उक्त चैनल पर चलाई गई खबर को तथ्यों के खिलाफ बताया है।

उन्होंने कहा कि चैनल द्वारा माफी न मांगे जाने पर मानहानि का दावा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के चलते परीक्षाएं स्थगित होने के बाद संस्था के अधिकांश छात्र अपने घरों को जा चुके है। संस्था के छात्रावास में इस समय केवल 415 छात्र मौजूद है। जिनकी सूची प्रशासन के पास मौजूद है, और स्वास्थ्य विभाग उन सभी की जांच कर स्वस्थ होने का प्रमाण पत्र दे चुका है ऐसे में इस तरह की तथ्यहीन खबर चलाना सिर्फ़ दारूल उलूम देवबन्द की छवि को बदनाम करने की साजिश चैनल ने की है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations