Home » Latest » आखिरकार गृह मंत्रालय ने माना, देश के 21,064 राहत शिविरों में 6.66 लाख से ज्यादा विस्थापित
Amit Shah Narendtra Modi

आखिरकार गृह मंत्रालय ने माना, देश के 21,064 राहत शिविरों में 6.66 लाख से ज्यादा विस्थापित

Ultimately, the Ministry of Home Affairs admitted, over 6.66 lakh displaced in 21,064 relief camps in the country

Over 21,000 #COVID2019 relief camps set up in States and UTs

नई दिल्ली, 31 मार्च 2020. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आखिरकार स्वीकार किया है कि कोरोना वायरस संकट के बीच पूरे भारत में कुल 21,064 राहत शिविरों में 6.66 लाख से ज्यादा विस्थापित लोग ठहरे हुए हैं।

मंत्रालय ने कहा कि कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 23 लाख से ज्यादा लोगों को खाना और अन्य जरूरी चीजें मुहैया कराई गई हैं।

मंत्रालय के अनुसार, सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में लॉकडाउन का निरीक्षण किया जा रहा है और यह संतोषजनक है। इसके अलावा जरूरी चीजों की आपूर्ति भी सही तरीके से चल रही है।

गृह मंत्रालय मं संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा,

“राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कुल 21,064 प्रवासी राहत शिविरों का निर्माण किया गया है, जिसमें कुल 6,66,291 लोगों को रहने की सुविधा प्रदान की गई है।”

अधिकारी ने कहा कि इसके अलवा 23 लाख लोगों को खाना मुहैया कराया गया है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता (Theoreticity of Psychoanalysis or Structure of ideology of psychoanalysis and …